माओवादियों से वार्ता जारी रहने का दावा

ममता बैनर्जी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption चुनाव के दौरान ममता बैनर्जी पर वामपंथी दलों ने माओवादियों से सांठगांठ के आरोप लगाए थे

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से दो घंटे चली बैठक के बाद माओवादियों के साथ चर्चा के लिए तय किए गए मध्यस्थों ने दावा किया है कि उन्हें प्रयास जारी रखने को कहा गया है.

उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री ने उनसे कहा है कि वे माओवादियों को वार्ता के टेबल तक लाने का प्रयास जारी रखा जाए.

कोलकाता से बीबीसी संवाददाता अमिताभ भट्टासाली का कहना है चूंकि सरकार और पुलिस की ओर से इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है इसलिए सवाल उठाए जा रहे हैं कि मध्यस्थों के दावे पर कितना भरोसा किया जाना चाहिए.

उनका कहना है कि ये असमंजस लोगों में ही नहीं सरकार और पुलिस प्रशासन के लोगों के बीच भी है.

कार्रवाई जारी

माओवादियों ने अपनी ओर से स्पष्ट कर दिया है कि जब तक उनके ख़िलाफ़ पुलिस कार्रवाई नहीं रुकती है तब तक वे शांतिवार्ता में भाग नहीं लेंगे.

उन्होंने कहा कि एकतरफ़ा युद्ध विराम की जो घोषणा उन्होंने की थी उसे भी वे वापस ले रहे हैं.

Image caption माओवादियों ने साफ़ कर दिया है कि वे कार्रवाई रुके बग़ैर वार्ता नहीं करेंगे

इस घोषणा के बाद माओवादियों ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के दो कार्यकर्ताओं की हत्या भी कर दी है.

लेकिन ममता बनर्जी और पुलिस महानिदेशक ने सिर्फ़ इतना ही कहा है कि माओवादियों से शांतिवार्ता के प्रयास जारी रखे जाएँगे, लेकिन जहाँ वे ग़ैरक़ानूनी काम करेंगे वहाँ क़ानूनी ढंग से क़दम उठाए जाएंगे.

इसका मतलब ये है कि माओवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई चलती रहेगी.

पुलिस के आला अधिकारियों का कहना है कि उन्हें माओवादियों के ख़िलाफ़ ऑपरेशन तेज़ करने के आदेश दे दिए गए हैं और उन्होंने इस आदेश पर अमल भी शुरु कर दिया है.

पुरुलिया ज़िले में दो दिन पहले रात भर मुठभेड़ चलती रही है और इसके बाद कई माओवादी नेताओं को गिरफ़्तार भी किया गया है.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि जब सरकार और माओवादी दोनों अपने-अपने रूख़ पर क़ायम हैं तो मध्यस्थ शांतिवार्ता के प्रयासों में कितने सफल होंगे ये कहना मुश्किल है.

संबंधित समाचार