युवक ने शरद पवार को थप्पड़ मारा

शरद पवार इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption पवार भारत के कृषि मंत्री के अलावा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के अध्यक्ष भी हैं

कृषि मंत्री शरद पवार को आज दिल्ली में एक युवक ने थप्पड़ मार दिया. युवक ने अपना नाम हरविंदर सिंह बताया है और वह भ्रष्टाचार तथा महँगाई के विरोध में नारे लगा रहा था.

उस युवक ने लगभग चाकू जितनी लंबाई वाला कृपाण निकाल लिया था और उससे हमले की धमकी भी दी. हरविंदर को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया और उन्हें संसद मार्ग पुलिस थाने ले जाया गया.

सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने इस घटना की निंदा की है जबकि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि इस तरह की घटनाओं को ज़्यादा अहमियत नहीं दी जानी चाहिए.

घटना के बाद पवार ने कहा कि ऐसी घटनाओं को ज़्यादा अहमियत नहीं दी जानी चाहिए, "ये असामाजिक तत्व हैं और ऐसे लोगों को ज़्यादा महत्त्व नहीं दिया जाना चाहिए."

राजधानी के एनडीएमसी सेंटर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के बाद लौटते समय पवार को उस युवक ने निशाना बनाते हुए थप्पड़ मार दिया और उसके बाद इससे पहले कि वह कोई और हमला कर पाता उसे सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ लिया.

पवार घटनास्थल से शांति से चले गए.

ये हरविंदर सिंह वही युवक है जिसने कुछ ही दिनों पहले पूर्व टेलिकॉम मंत्री सुखराम पर हमला किया था.

सुखराम पर भी

सुखराम पर भ्रष्टाचार के मामले में सज़ा सुनाई गई थी. उस मामले में हरविंदर को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था.

ये पूछे जाने पर कि उन्होंने हमला क्यों किया ग़ुस्साए हरविंदर ने कहा कि वह देश में एक के बाद एक घोटालों से नाराज़ है.

हरविंदर ने कहा कि उन्होंने ऐसा सिर्फ़ प्रचार पाने के लिए नहीं किया है और वह इसके नतीजे को लेकर चिंतित नहीं हैं.

उनका कहना था, "हर ज़रूरी सामान की क़ीमतें बढ़ती जा रही है. मैं एक आतंकवादी नहीं हूँ क्योंकि आतंकवादी ऐसा क़दम नहीं उठाता. मैं अलग-अलग घोटालों में शामिल भ्रष्ट मंत्रियों से त्रस्त हूँ."

पवार पर हुए इस हमले की सभी पार्टियों के नेताओं ने एक सुर में निंदा की है.

भाजपा की सांसद स्मृति ईरानी ने कहा, "इस तरह की हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी."

इसी तरह समाजवादी पार्टी सांसद मुलायम सिंह यादव का कहना था, "जो भी हुआ वह ग़लत है. महँगाई को लेकर सभी चिंतित हैं मगर मैं हिंसा के पक्ष में नहीं हूँ."

संबंधित समाचार