प्रधानमंत्री को सामन्य कार्यवाही की आशा

मनमोहन सिंह इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption दिल्ली में नौसेना के 'ऐट-होम' के मौके पर यह पूछे जाने पर कि क्या सदन की कार्रवाई सामान्य रूप से चलेगी, प्रधानमंत्री ने कहा, ''आशा है.''

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उम्मीद जताई है कि बुधवार से सदन में कार्यवाही सामन्य रूप से चलेगी. पिछले हफ़्ते संसद में काफ़ी हंगामा हुआ था और कामकाज नहीं हो पाया था.

रविवार को दिल्ली में नौसेना के 'ऐट-होम' कार्यक्रम के मौके पर जब प्रधानमंत्री से पूछा गया कि क्या कार्यवाही सामान्य रूप से चलेगी, तो प्रधानमंत्री ने कहा, ''आशा है.''

शीतकालीन सत्र के कई दिन विपक्ष और यूपीए के दो सहयोगी दलों के हंगामे की वजह से पहले ही धुल चुके हैं. यह पार्टियां खुदरा व्यापार क्षेत्र में एफ़डीआई को मंज़ूरी के फैसले को वापस लेने की माँग कर रही हैं.

सरकार के अपनी सहयोगी दलों -- द्रमुक और तृणामूल कांग्रेस -- को मनाने के प्रयासों के बावज़ूद गतिरोध जारी है.

दोनों सदनों की बैठक अब बुधवार को होनी है. मौजूदा सत्र 22 दिसंबर को समाप्त होगा.

ममता बनर्जी का बयान

इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि केंद्र सरकार ने रिटेल क्षेत्र में प्रत्यक्ष पूंजी निवेश के फ़ैसले पर फ़िलहाल रोक लगा दी है.

हालांकि सरकार की तरफ़ से इस विषय पर कोई बयान नहीं आया था.

ममता बनर्जी ने केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के साथ टेलीफ़ोन पर बातचीत करने के बाद ये घोषणा की थी.

विपक्ष के अलावा तृणामूल कांग्रेस और डीएमके भी कैबिनेट के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ हैं. इन दोनों दलों के लोकसभा में 18-18 सांसद हैं.

उधर भाजपा और सीपीआई ने कहा था कि सरकार को संसद में बयान जारी कर इस मामले पर अपनी स्थिति साफ़ कर देनी चाहिए.

संबंधित समाचार