शीर्ष उल्फ़ा नेता बर्मा में पकड़े गए

उल्फ़ा
Image caption माना जाता है कि बर्मा और चीन में उल्फ़ा के गढ़ स्थापित है

भारत के केन्द्रीय गृह सचिव आरके सिंह ने रविवार को बताया कि असम के सबसे प्रमुख अलगाववादी गुट उल्फ़ा के एक शीर्ष नेता और एक भारतीय पत्रकार को बर्मा में हिरासत में लिया गया है.

हालाँकि समाचार एजेंसी पीटीआई के हवाले से मिल रही जानकारियों के अनुसार आरके सिंह ने बताया कि उल्फ़ा के प्रमुख नेता परेश बरुआ के बारे में कोई पुख्ता जानकारी नही मिल पाई है.

पीटीआई को दिए बयान में आरके सिंह ने कहा, “हमारे पास जानकारी है कि जीवन मोरान और एक भारतीय पत्रकार को बर्मा में हिरासत में लिया गया है. अभी तक हमें परेश बरूआ के बारे में कोई जानकारी नही मिल पायी है.”

उन्होने हिरासत में लिए गए पत्रकार के बारे में जानकारी नही दी.

परेश बरूआ के नेतृत्व वाले उल्फ़ा के कट्टर धड़ में मोरान दूसरे सबसे बड़े नेता है.

बर्मा और चीन में है गढ़

हिरासत में लिया गया पत्रकार गुवाहाटी के एक स्थानीय अखबार में काम करता है.

माना जा रहा है कि वह बर्मा परेश बरूआ से साक्षात्कार करने जा रहे थे.

सूत्रों के मुताबिक़ दोनों लोगों को हिरासत में लेने के बाद बर्मा के अधिकारियों ने भारत सरकार से संपर्क करके मामले की जानकारी दी.

माना जा रहा है कि दोनों को चीन की सीमा से सटे बर्मा के पूर्वी इलाके में पकड़ा गया.

हालाँकि ये साफ़ नही हो पाया है कि दोनों को किन परिस्थितिओं में हिरासत में लिया गया.

माना जाता है कि परेश बरूआ का चीन और बर्मा में गढ़ स्थापित है और वो वहाँ जाते रहते है.

संबंधित समाचार