'मनरेगा से छोटे किसान का नुक़सान'

  • 15 दिसंबर 2011
इमेज कॉपीरइट spl arrangement
Image caption रामगोपाल यादव ने नरेगा को छोटे किसानों के लिए नुकसानदेह बताया

राज्य सभा मे बोलते हुए सपा सांसद रामगोपाल यादव ने महात्मा गांधी ग्रामीण रोज़गार योजना या मनरेगा को छोटे किसानों के लिए नुक़सानदेह बताया और खेती के मौसम में इसे स्थगित करने की मांग की.

गुरूवार को राज्य सभा में फिर एक बार देश में किसानों की बदहाली और बढ़ती आत्महत्याओं पर राज्य सभा में चर्चा हुई. बहस की शुरुआत करते हुए भारतीय जनता पार्टी के नेता एम वेंकैया नायडू ने कहा कि नेताओं को शर्म आती है किसानों के सामने जाते हुए.

किसी सांसद ने इस बात को इंगित किया किस तरह से सरकारी ख़रीद का ज़्यादातर हिस्सा पंजाब हरियाणा से ख़रीदा जाता है. तो किसी और ने इस बात पर रोष जताया कि सरकार खेती में निवेश नहीं कर रही है.

मणिशंकर अय्यर ने तमाम बातों की चर्चा के बीच में यह भी कहा कि आत्महत्याओं को रोकने के लिए कपास जैसी नक़दी फ़सलों के किसानों को समझाने की ज़रुरत है.

अय्यर ने कहा, " पंचायती राज के चलते हम सब कपास के किसानों को यह समझाने के लिए बाध्य हैं कि कपास की खेती में क्या ख़तरे हैं. अगर भाग्य अच्छा रहा तो बहुत पैसा मिलेगा पर अगर एक भी चीज़ गड़बड़ाई को सर पर इतना क़र्ज़ हो जाएगा कि दो पुश्तें भी नहीं उतार पाएगीं."

अय्यर ने यह भी कहा कि किसानों को सही जानकारी देना भी कृषी विस्तार के लिए उतना ही ज़रूरी है जितना उनको बीज खाद दिलाना.

'मनरेगा नुक़सानदेह'

समाजवादी पार्टी के महासचिव और रामगोपाल यादव ने एक ऐसा विवादास्पद विषय उठा दिया जिसने अर्थशास्त्रियों से लेकर राजनेताओं तक सबको दो फाड़ कर रखा है. यादव ने कहा कि महात्मा गाँधी ग्रामीण रोज़गार योजना खेती कर रहे छोटे किसानों को नुक़सान पहुंचा रही है.

समाजवादी पार्टी के नेता ने कहा, "मैं ख़ुद भी एक किसान हूँ. हालत यह है कि धान काटने के लिए कोई मज़दूर नहीं मिलता है. मनरेगा में आपने ऐसी स्थिती कर दी है कि दस्तख़त हो जाते हैं 120 रुपए पर घर बैठे आदमी को 50 रुपए दे दिए जाते हैं और इससे कोई सकारात्मक काम नहीं हो रहा. कम से कम इतना करें कि किसान की बुवाई और कटाई के समय इसे स्थगित करें या कुछ और व्यवस्था करें."

हर बार कि तरह गुरूवार को भी सांसद अपनी अपनी बात कह कर सदन से चले गए.

ज़्यादातर लोगों ने अपने से पहले के वक्ताओं को सुना बाद के वक्ताओं को नहीं. हाँ केंद्रीय मंत्री शरद पवार वहां पूरे समय मौजूद थे जो अपना उत्तर सोमवार को देंगे.

संबंधित समाचार