इशरत जहाँ मुठभेड़ में 20 पुलिस वालों पर मामले दर्ज

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इशरत जहां के अलावा तीन लोगों को इस मुठभेड़ में मार दिया गया था

गुजरात में 2004 में हुए इशरत जहाँ फर्ज़ी मुठभेड़ मामले में सीबीआई ने शनिवार को 20 पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ मामले दर्ज किए हैं.

इन पर हत्या और सबूतों को नष्ट करने का अभियोग है.

मामले की जाँच कर रहे विशेष दल ने 15 दिसम्बर को सीबीआई को मामला सौपा जिसके बाद जांच एजेंसी ने नई प्राथमिकी दर्ज की है.

इन सभी 20 पुलिसकर्मियों पर हत्या और साक्ष्य को नुकसान पहुंचाने का मामला दर्ज किया गया है.

गुजरात हाईकोर्ट ने एक दिसम्बर को सीबीआई को निर्देश दिया था कि वह मामले की आगे की जांच को संभाले.

इशरत जहाँ मामला

इशरत जहाँ का मामला 2004 का है जिसमें पुलिसकर्मियों ने एक कथित मुठभेड़ में इशरत समेत चार लोगों को मार दिया था.

गुजरात हाई कोर्ट का कहना था कि इस मामले में स्थानीय पुलिस पर भरोसा नहीं किया जा सकता इसलिए यह मामला सीबीआई को सौंप दिया जाए.

गुजरात पुलिस ने कहा था कि ये चारों पाकिस्तान स्थित चरमपंथी गुट का हिस्सा हैं और ये मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को मारने की योजना बना रहे थे.

हालांकि कोर्ट में मामला आने के बाद कोर्ट ने मामले की जांच के लिए एक समिति बनाई और इस समिति ने अपनी जांच में इस मुठभेड़ को फ़र्ज़ी करार दिया था.

मानवाधिकार संगठन लगातार ये कहते रहे हैं कि गुजरात में कई मामलों में फ़र्ज़ी मुठभेड़ हुई हैं.

सीबीआई के लिए आदेश जारी करते हुए कोर्ट ने कहा था कि इशरत जहाँका मामला अलग तरह का है और इस मामले के राष्ट्रीय स्तर पर प्रभाव पड़ सकता है.

संबंधित समाचार