'लोकपाल विधेयक संसद के इसी सत्र में'

कांग्रेस के सदस्य इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मनमोहन सिंह ने कहा है कि सरकार की कोशिश लोकपाल विधेयक को संसद के इसी सत्र में पारित कराने की है

संसद के इसी सत्र में लोकपाल विधेयक को रखे जाने को लेकर गहराती आशंकाओं को दर किनार करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि उनकी सरकार इस विधेयक को संसद के इसी सत्र में पारित कराने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है

रूस के दौरे से भारत वापसी के दौरान विशेष विमान में मनमोहन सिंह ने पत्रकारों से कहा कि रविवार को मंत्रिमंडल की बैठक होनी है जिसमें इस पर चर्चा होगी.

उन्होंने कहा कि एक बार जब ये विधेयक संसद में आ जाएगा तब इस पर फैसला लेना संसद के हाथ में होगा. वो नहीं जानते कि क्या होगा, लेकिन विधेयक को इसी सत्र में पारित कराने की उनकी ईमानदारी पर किसी को कोई संदेह नहीं करना चाहिए.

अन्ना की चेतावनी

अन्ना हज़ारे ने पहले ही लोकपाल विधेयक को संसद के इसी सत्र में पारित कराने का सरकार पर दबाव बना रखा है. साथ ही जेल भरो आंदोलन की धमकी दे रखी है.

अन्ना हज़ारे ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को शनिवार को एक पत्र भेजकर कहा है कि अगर शीतकालीन सत्र में एक 'सशक्त, स्वतंत्र और प्रभावी' लोकपाल बिल नहीं पास किया गया तो वह 27 दिसंबर से अनिश्चतकालीन अनशन पर जाएंगे जिसके बाद देश भर में जेल भरो आंदोलन शुरू किया जाएगा.

अब सरकार के सामने चुनौती है कि 22 दिसंबर को ख़त्म हो रहे सत्र में वह लोकपाल विधेयक को संसद के दोनों सदनों में किस तरह से पारित करवाएगी

विधानसभा चुनावों के बाद एफडीआई

एफडीआई के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार अगले साल विभिन्न राज्यों में विधानसभा चुनावों के बाद खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के फैसले को लागू करने के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों से बात करेगी.

उन्होंने कहा कि फिलहाल टाले गए इस फैसले पर व्यापक सहमति बनाने के लिए काम किया जाएगा.

केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक रविवार शाम को हो सकती है जिसमें लोकपाल और खाद्य सुरक्षा विधेयक पर चर्चा होने के आसार हैं

मंत्रिमंडल की पिछली बैठक में खाद्य सुरक्षा विधेयक पर चर्चा टाल दी गई थी.

खाद्य सुरक्षा बिल को मंजूरी मिलने के बाद देश की आबादी के 63.5 प्रतिशत लोगों को सस्ते अनाज का कानूनी अधिकार दिया जाएगा.

संबंधित समाचार