'ठाणे' समुद्री तूफ़ान में छह की मौत

तुफान इमेज कॉपीरइट r
Image caption मौसम विभाग का कहना है कि इस तुफान के कुछ घंटों में थमने की संभावना है.

बंगाल की खाड़ी से चले 'ठाणे' नाम के चक्रवात में कड्डलोर और पड़ोसी पुड्डुचेरी में छह लोगों की मौत और भारी नुक़सान की ख़बर है.

यह तूफ़ान तमिलनाडु के तटीय क्षेत्रों को पार कर चुका है.

अधिकारियों के अनुसार दीवार गिरने और करंट लगने से कड्डलोर में पाँच लोग मारे गए जबकि एक व्यक्ति पुड्डुचेरी में छत गिरने से मारा गया.

मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार 145 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से तेज़ हवाएं और बारिश हो सकती हैं. हालांकि उनका कहना है कि कुछ देर बाद ये कम हो जाएंगी.

एक अंग्रेज़ी अख़बार 'मेल टूडे' के संवाददाता एमसी राजन ने बीबीसी को बताया, ''तेज़ हवाएं जारी हैं. हालांकि मौसम विभाग का कहना है कि इस तूफ़ान के कुछ घंटों में थमने की संभावना है.''

पुड्डुचेरी, कड्डलोर और नागापट्टनम में हाई अलर्ट है. यहां तेज़ हवा के साथ भारी बारिश हो रही है.

बिजली, उड़ानें प्रभावित

इन ज़िलों के कई इलाक़ों में बिजली गुल है हालांकि प्रशासन ने समंदर के पास रहने वाले लोगों को पहले ही सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया है.

तड़के दो बजे यह तूफ़ान पुड्डुचेरी के पूर्व में 90 किलोमीटर तक और चेन्नई के दक्षिणपूर्व में 125 किलोमीटर नज़दीक पहुंच गया था.

समाचार एजेंसी आईएएनएस ने आईएमडी अधिकारी के हवाले से बताया, ''इस तूफ़ान में तेज़ हवाएं ज़्यादा चलेंगी और बारिश ज़्यादा नहीं होगी. पुड्डुचेरी में 14 सेंटीमीटर और कुड्डालोर में सात सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई.'

उधर कई उड़ानें भी प्रभावित हुई हैं. कुवैत और क्वालालंपुर जाने वाली उड़ानों समेत चार अंतरराष्ट्रीय विमान सेवाएं रद्द कर दी गई.

सरकार ने तीन ज़िलों में स्कूल और कॉलेजों की छुट्टी का ऐलान कर दिया है. प्रशासन ने लोगों को घरों के भीतर ही रहने की सलाह दी है.

इस तूफ़ान के आने की ख़बर से अब तमिलनाडु के न्यूक्लियर प्लांट्स की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हो गए हैं हालांकि कुडनकुलम न्यूक्लियर प्लांट तूफ़ान आने की संभावित जगहों से काफ़ी दूर है.

संबंधित समाचार