मैने काला धन मांगा तो काली स्याही क्यों: रामदेव

पीटीआई इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption रामदेव दिल्ली में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे जब उन पर स्याही फेंकी गयी

योगा गुरू बाबा रामदेव पर नई दिल्ली में शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रे़स के दौरान एक व्यक्ति ने स्याही फेंक दी.

इस घटना से नाराज़ बाबा रामदेव के समर्थकों ने स्याही फेंकने वाले व्यक्ति को पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई की. उसके बाद पुलिस ने हमलावर को अपनी हिरासत में ले लिया.

पैंतीस से चालिस साल की उम्र वाले इस व्यक्ति का नाम कामरान सिद्दिक़ी बताया जा रहा है जो कि दिल्ली में ही रियल कॉज़ नाम की एक ग़ैर सरकारी संस्था चलाता है.

ग़ुस्साई भीड़ के बीच पुलिस हमलावर को पकड़कर पार्लियामेंट पुलिस स्टेशन ले गई जहां उसके साथ पूछताछ की जा रही है.

शानिवार की सुबह राजधानी दिल्ली के कंस्टिट्यूशन क्लब में जनता पार्टी के अध्यक्ष सुब्रह्मण्यम स्वामी के साथ बाबा रामदेव एक पत्रकार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे.

हमलावर की पिटाई

रामदेव काले धन के मुद्दें पर अपनी योजनाएं प्रेस के समक्ष रख रहे थे.

इसी बीच कामरान सिद्दिक़ी नाम के इस व्यक्ति ने रामदेव पर स्याही फेंकी जिससे उनकी दांयी आंख और माथा काला पड़ गया.

रामदेव के अपने समर्थकों से शांत हो जाने की अपील के बावजूद ग़ुस्साई भीड़ ने सिद्दिक़ी को मार मार कर लहूलुहान कर दिया, उसके कपड़े भी फाड़ दिए गए.

पुलिस सिद्दीक़ी से पूछताछ कर रही है जिसके बाद ये तय किया जाएगा कि उन पर कौन सी धाराओं के तहत कार्यवाई की जाए.

इस घटना से अचंभित रामदेव ने कहा, ''हमने काले धन को राष्ट्रीय संपत्ती घोषित करके देश को दिलाने की बात की, भ्रष्टाचार को मिटाने की बात की, एक सच्चा लोकतंत्र बनाने की मांग की उसके उपहार के तौर पर काली स्याही मिली.''

उन्होंने आगे कहा, ''हमें पहले भी काले झंड़े दिखाए गए है लेकिन हमें उसकी परवाह नही है.''

ग़ौरतलब है कि बाबा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वह एक बार फिर भारत स्‍वाभिमान यात्रा करने जा रहे हैं. इस बार वो उन पांच राज्‍यों का दौरा करेंगे जहां अभी विधानसभा चुनाव होने हैं.

राजनीतिक दलों की प्रतिक्रिया

राजनीतिक दलों ने रामदेव पर स्याही फेंके जाने की निंदा की हैं.

भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी ने कहा है कि ऐसी घटनाएं बार बार हो रही है और सरकार को इनके ख़िलाफ़ कड़े क़दम उठाने चाहिए.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption गुस्साई भीड़ ने स्याही फेंकने वाले को मार मार कर लहूलुहान कर दिया

रूडी ने टीम अन्ना के सदस्य प्रशांत भूषण और केन्द्रीय मंत्री शरद पवार के साथ हुए दुर्व्यवहार के मामले भी याद दिलाए.

उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी ये मानने को विवश है कि शनिवार को बाबा रामदेव के साथ हुई घटना के पीछे भी यूपीए हो सकती है.

कांग्रेस ने भी घटना की निंदा करते हुए कहा है कि इसका सरकार के विरोध से कोई लेना देना नही है.

कांग्रेस के प्रवक्ता राशिद अल्वी ने कहा है कि जो कुछ भी हुआ है वो दुर्भाग्यपूर्ण है, सभी को विरोध का अधिकार है लेकिन अगर किसी ने कुछ ग़लत किया है तो फिर क़ानून अपना काम करेगी.

इसी के साथ कांग्रेस ने ये भी स्पष्ट करने की कोशिश की है कि हर व्यक्ति को किसी भी राजनीतिक दल का विरोध करने की आज़ादी है.

अन्ना भी नाराज़

राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू प्रसाद यादव ने भी हमले की निंदा करते हुए कहा कि लोकप्रियता पाने के लिए की जाने वाले इस तरह के हमले अब आम हो चले है. उन्होंने मांग की है कि हमलावर के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाए.

रामदेव पर स्याही फेंके जाने के मामले की सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हज़ारे ने भी निंदा की है.

अन्ना ने एक बयान जारी कर कहा है कि इस तरीक़े की हरकतों से जन आंदोलन रूकेगा नही बल्कि और आगे बढ़ेगा.

संबंधित समाचार