उत्तर भारतीयो के ख़िलाफ़ बरसे राज ठाकरे

  • 24 जनवरी 2012
राज ठाकरे
Image caption शिव सेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना काफ़ी समय से उत्तर भारतीयों का विरोध करते आए हैं

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने उत्तर भारतीयों पर एक नया प्रहार करते हुए कहा है कि 13 जुलाई 2011 के मुंबई हमलों के मामले में बिहार के कथित चरमपंथियों का ग़िरफ़्तार किया जाना ये दर्शाता है कि इस हमले का बिहार से संबंध था.

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा, “मैं बहुत समय से कह रहा हूं कि उत्तर भारत से मुंबई आ कर बसने वालों की बढ़ती तादाद की वजह से चरमपंथी घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है. 13/7 को मुंबई में हुए सिलसिलेवार हमलों के मामले में बिहार के कुछ संदिग्धों की ग़िरफ़्तारी ने मेरे दावे की पुष्टि की है. इस हमले के तार बिहार से जुड़े होने की बात साबित हो गई है. क्या इस बात पर कोई ध्यान देगा या नहीं? मुझे समझ नहीं आता कि मेरे बयानों पर इतना बवाल क्यों बनाया जाता है.”

बाल ठाकरे की शिव सेना और राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना काफ़ी समय से उत्तर भारतीयों पर धावा बोलते आए हैं.

उनका मत है कि उत्तर भारतीयों को नौकरियों की तलाश में मुंबई नहीं आना चाहिए, क्योंकि उससे स्थानीय लोगों के लिए अवसर कम होते हैं.

राज्य चुनाव आयोग की अध्यक्ष नीला सत्यनारायण ने हाल ही में राज ठाकरे को चेतावनी दी थी कि उनकी पार्टी का पंजीकरण रद्द किया जा सकता है.

इस पर राज ठाकरे ने कहा, “क्या हम चुनाव आयोग से सवाल नहीं कर सकते? अगर उप-मुख्यमंत्री अजीत पवार को सिर्फ़ एक माफ़ी मांगने पर माफ़ कर दिया जाता है, तो मुझे उम्मीद है कि आयोग दूसरों को भी ऐसे अवसर देगा.”

गुजरात मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा, “अगर मेरी पार्टी के उम्मीदवार सांसद चुने जाते हैं, तो मैं प्रधानमंत्री के पद के लिए नरेंद्र मोदी का समर्थन करूंगा.”

पिछले साल नरेंद्र मोदी ने राज ठाकरे को गुजरात आने का निमंत्रण दिया था.

संबंधित समाचार