'चीन के साथ सीमित संघर्ष की तैयारी कर रहा है भारत'

  • 2 फरवरी 2012
भारतीय सेना इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अमरीकी ख़ुफ़िया विभाग के अधिकारी ने कहा कि भारत अमरीकी सेना के पूर्वी एशिया में उठाए जा रहे क़दमों का समर्थन करता है.

एक वरिष्ठ अमरीकी ख़ुफ़िया अधिकारी ने कहा है कि भारतीय सेना चीन के साथ ‘सीमित संघर्ष’ की तैयारी कर रही है.

अमरीका में ‘नेशनल इंटेलिजेंस’ के निदेशक जेम्स क्लेपर ने सीनेट की इंटेलिजेंस समिति को बताया कि भारत अपनी सीमा पर चीन के नज़रिए से लगातार चिंतित होता जा रहा है.

जेम्स क्लेपर ने कहा, “सार्वजनिक रूप से भारत चीन के साथ तनाव को कम आंक रहा है लेकिन हमें लगता है कि भारत लगातार चीन के रवैये से चिंतित है. भारतीय सेना मानती है कि चीन के साथ कोई बड़ा युद्ध तो नहीं होगा लेकिन वो विवादित सीमा पर सीमित संघर्ष के लिए अपने आप को मज़बूत कर रही है. ”

उन्होंने कहा कि भारत पूर्वी एशिया और एशिया के बाक़ी हिस्सों में अमरीकी सेना की मज़बूत मौजूदगी का समर्थन करता है.

जेम्स क्लेपर ने सीनेट की समिति को बताया, “चीनी नेताओं ने शांतिपूर्ण और वास्तविक विदेश नीति के प्रति अपनी कटिबद्धता जताई है. विशेषकर अपने पड़ोसियों के साथ संबंधों के बारे में. लेकिन अगर चीन को लगा कि उसकी राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीर चुनौती मिल रही है तो वो इस मक़सद के विपरीत भी क़दम उठा सकता है. ”

उन्होंने कहा कि चीन ने अपने सारी सैन्य क्षमताओं को मज़बूत कर लिया है जिसके चलते अब वो एक ज़बर्दस्त सैनिक शक्ति है.

जेम्स क्लेपर ने कहा कि चीनी सेना को अब एक आधुनिक शक्ति बनाने के लिए धन और राजनीतिक समर्थन मिल रहा ताकि वे एशिया और उसके बाहर भी कार्रवाई कर सके.

संबंधित समाचार