उत्तर प्रदेश में ज़ोर पकड़ रहा है मतदान

उत्तर प्रदेश में चुनाव इमेज कॉपीरइट AP
Image caption इस चरण में कई बाहुबलियों की तकदीर भी दांव पर है.

उत्तर प्रदेश में चल रहे विधान सभा चुनावों में बुधवार को तीसरे चरण का मतदान हो रहा है. इस चरण में 10 ज़िलों की 56 विधान सभा सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ दोपहर बाद तक 47 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

तीसरे चरण में गांधी परिवार के गढ़ अमेठी और सुल्तानपुर में भी मतदान हो रहा है. यहां चुनाव प्रचार की कमान प्रियंका गांधी ने संभाल रखी थी.

इसके अलावा कौशांबी, इलाहाबाद, जौनपुर, चंदौली, वाराणसी, संत रविदास नगर, मिर्ज़ापुर और सोनभद्र ज़िलों में भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच मतदान हो रहा है.

इन ज़िलों में से चंदौली और सोनभद्र नक्सल प्रभावित इलाके हैं, जहां मतदान केंद्रों के आस-पास कड़े सुरक्षा इंतज़ाम किए गए हैं.

आज के मतदान में करीब 1 करोड़ 75 लाख मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगें.

2007 में हुए पिछले विधानसभा चुनावों के तीसरे चरण में 52 सीटों पर मतदान हुआ था, जिसमें से बसपा ने 31, सपा ने 11, भाजपा ने छह, कांग्रेस ने तीन और निर्दलीय उम्मीदवार ने एक सीट जीती थी.

लोगों में उत्साह

जौनपुर में बदलापुर चुनाव क्षेत्र के निवासी राम बरण साढ़े छह बजे निकल कर पहला मत डाला.

इलाके में मौजूद बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव को राम बरण ने बताया, "मैं सुबह साढ़े छह बजे इसलिए निकला क्योंकि में मतदान डालने वाला पहला व्यक्ति बनना चाहता था."

जौनपुर के ही शाहगंज विधान सभा हल्के के एक पोलिंग बूथ के सुरक्षा प्रभारी अर्जुन सिंह ने बीबीसी को बताया कि सुबह चार बजे से ही कड़े सुरक्षा बंदोबस्त हैं. उन्होंने कहा कि पोलिंग बूथ पर मतदाताओं के अलावा किसी को भी जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है.

नितिन श्रीवास्तव का कहना है कि जौनपुर और सुल्तानपुर के बीच लंभुआ और शाहगंज के मतदान केंद्रों में सुबह नौ बजे के बाद काफ़ी लोगों ने आना शुरू कर दिया है.

सुबह जब वोटिंग शुरू हुई थी, तब भीड़ देखने को नहीं मिल रही थी लेकिन जैसे-जैसे दिन चढ़ रहा है, लोग दूर-दूर से अपना वोट डालने मतदान केंद्रों तक पहुंच रहे हैं.

बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव का कहना है कि लोगों में मतदान को लेकर काफ़ी उत्साह देखने को मिल रहा है और कुछ लोग कई किलोमीटर की दूरी तय कर मतदान केंद्रों तक पहुंच रहे हैं.

दूसरी दिलचस्प बात ये है कि जौनपुर और सुल्तानपुर में बड़ी संख्या में मुसलमान मतदाता वोट डालने आ रहे हैं. बीबीसी संवाददाता नितिन श्रीवास्तव का आकलन है कि इसका फ़ायदा कांग्रेस और समाजवादी पार्टी को मिल सकता है.

बुधवार को हो रहे मतदान में राज्य के तीन कैबिनेट मंत्री इंद्रजीत सरोज मंझापुर से, नंद किशोर गुप्ता इलाहाबाद दक्षिण से और धर्मराज निषाद शाहगंज से उम्मीदवार हैं. इसके राज्य मंत्री विनोद सिंह लंभुआ से उम्मीदवार हैं.

बाहुबली मैदान में

इस चरण में कई बाहुबली भी मैदान में हैं. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ इस चरण में 121 ऐसे उम्मीदवार हैं जिनके ख़िलाफ़ आपराधिक मामले चल रहे हैं.

इसके अलावा 48 ऐसे उम्मीदवार हैं, जो कि करोड़पति हैं.

पूर्व सांसद और कई मामलों में अभियुक्त अतीक़ अहमद अपना दल की ओर से इलाहाबाद पश्चिम से चुनाव लड़ रहे हैं.

कथित माफ़िया डॉन बृजेश सिंह चंदौली ज़िले की सैयदरज़ा सीट से प्रगतिशील मानव समाज पार्टी के उम्मीदवार हैं.

गोली चलाने के कई मामलों में अभियुक्त और दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ़ मुन्ना बजरंगी भी अपना दल के टिकट पर जौनपुर ज़िले के मदियाहों से चुनाव लड़ रहे हैं.

समाजवादी पार्टी के विधायक विजय मिश्रा इस समय राज्य के कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता पर हमले के सिलसिले में जेल में बंद है. विजय मिश्रा भदोही ज़िले की ग्यानपुर सीट से चुनाव में खड़े हैं.

इसके अलावा हत्या के अभियोग में जेल में बंद धनजय सिंह की पत्नी जागृति सिंह जौनपुर ज़िले की मल्हानी सीट से आज़ाद उम्मीदवार हैं.