मॉक ड्रिल ने ली महिला की जान,जाँच के आदेश

Image caption हाल ही में दिल्ली में भूकंप से बचने के लिए बड़े पैमाने पर मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया था.

बैंगलोर में शुक्रवार को हुए एक मॉक ड्रिल में हिस्सा ले रही एक 24-वर्षीय महिला प्रतिभागी की मौत हो गई.

इस मॉक ड्रिल का आयोजन अग्निशमन विभाग ने किया था. विभाग ने मामले में जाँच के आदेश दिए हैं.

घटना उस समय हुई जब इमारत की तीसरी मंजिल से यह महिला रस्सी के सहारे उतरने की कोशिश कर रही थी.

वो जिस रस्सी के सहारे नीचे आ रही थी वह अचानक टूट गई और वो जमीन पर गिर पड़ी. उसके सिर में गंभीर चोट आई.

पुलिस ने बताया कि अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि अभ्‍यास के दौरान वहां पर कोई सुरक्षा जाल नहीं था.

सुरक्षा के इंतजाम नहीं

बीबीसी से बातचीत में राज्य के अग्निश्मन विभाग के महानिदेशक एआर इंफैंट ने बताया कि नलिना नाम की इस महिला ने रस्सी के दौरान नीचे आने के लिए पहल की लेकिन वह नीचे गिर गई जिससे उनके सिर में चोट आई.

नलिना इस कपड़े बनाने वाली फैक्टरी में बतौर कल्याण अधिकारी कार्यरत थी.

पुलिस का कहना है कि ऐसा लगता है कि पूर्वाभ्यास यानि मॉक ड्रिल के दौरान सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए थे, जिस कारण यह हादसा हुआ.

इंफैंट ने बताया कि एक मुख्य अग्निश्मन अधिकारी को जाँच करने के लिए कहा गया है.उन्होंने कहा, ''एक सप्ताह में रिपोर्ट के आने की संभावना है. इस रिपोर्ट के आने के बाद अगली कार्रवाई निर्धारित होगी.''

महत्वपूर्ण है कि हाल ही में दिल्ली में सबसे बड़ी मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया था.

ये वो मॉक ड्रिल था जिसमें हर जगह भूकंप जैसी स्थितियां पैदा की गईं थी और इससे निपटने के तरीकों का अभ्यास किया गया था.

इसका आयोजन राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण और दिल्ली आपदा प्रबंधन ने किया था. इस ड्रिल का मकसद था कि अगर दिल्ली में 7.9 तीव्रता का भूकंप आ जाए तो स्थितियों से कैसे निपटा जाए.

संबंधित समाचार