'रातोंरात प्रधानमंत्री बन सकते है राहुल'

श्रीप्रकाश जायसवाल इमेज कॉपीरइट GOI
Image caption उत्तर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के बयान के बाद चुनाव आयोग ने श्रीप्रकाश जायसवाल को नोटिस भेजा है.

केन्द्रीय कोयला मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता श्रीप्रकाश जायसवाल ने शनिवार को उत्तर प्रदेश में एक चुनावी सभा के दौरान कहा कि अगर राहुल गांधी चाहे तो रात बारह बजे भी उन्हें प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई जा सकती है, लेकिन राहुल गांधी ऐसा नहीं चाहते है.

श्रीप्रकाश जायसवाल ने कहा, ''राहुल जी आज चाहे तो रात के 12 बजे उन्हे प्रधान मंत्री पद की शपथ दिलाई जा सकती है. कोई रोक नहीं सकता. लेकिन वो न तो प्रधान मंत्री बनना चाहते है और न ही मुख्य मंत्री.''

उन्होंने कहा, ''राहुल तो बस चाहते है कि वो अपने बाप दादाओं की जमीन पर से आतंक के वातावरण को जड़ से उखाड़कर फेंक दे.''

इस चुनावी मौसम में श्रीप्रकाश जायसवाल का ये पहला चौकाने वाला भाषण नहीं है.

बयान और नोटिस

प्रदेश में पांचवें चरण के मतदान में कानपुर में अपना वोट डालने के बाद भी उनके एक बयान से सियासी पारा काफी गर्मा गया था. उन्होंने तब कहा था कि अगर उत्तर प्रदेश में कांग्रेस नहीं आई तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है. इस बयान पर चुनाव आयोग ने तल्खी दिखाते हुए उन्हें एक नोटिस भी जारी की है.

श्रीप्रकाश जायसवाल ने 23 फरवरी को कानपुर में कहा था कि कांग्रेस का बहुमत आ रहा है और यदि कुछ सीटें कम रह जाती हैं तो राष्ट्रपति शासन लगेगा.

भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी ने इस बयान को आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन, असंवैधानिक व लोकतंत्र विरोधी बयान करार दिया था.

कानून मंत्री सलमान खुर्शीद और इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा के बाद कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ऐसे तीसरे मंत्री हैं जिन्हें आचार संहिता उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग ने कारण बताओ नोटिस जारी किया हैं.

संबंधित समाचार