नौकरी के कारण नहीं कर पाए मतदान

अमित कुमार
Image caption अमित कुमार ग्रेटर नोएडा में काम करते हैं

अमित कुमार दुबे इत्र नगरी कन्नौज के पास सिंहपुर ग्राम के रहने वाले हैं. 22 वर्षीय अमित का नाम वोटर लिस्ट में है. वोटर पहचान पत्र भी है. लेकिन अफ़सोस कि वे वोट डालने गाँव नहीं जा पाए हैं.

क्योंकि वे गाँव से दूर ग्रेटर नोएडा में सिक्यूरिटी गार्ड की ड्यूटी करते हैं. अमित कुमार के पिता किसान हैं. वे केवल इंटर पास हैं. परिवार में माँ-बाप के अलावा तीन भाई और तीन बहने हैं. अभी उनकी शादी नहीं हुई है.

खेती की आमदनी से गुज़ारा नहीं होता. इसलिए वे शहर चले आए. कोई टेक्नीकल पढाई नहीं की, इसलिए सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी कर ली. पिता भी नहीं चाहते कि थोड़ी सी खेती में सब बच्चे फँसें.

सरकारी नौकरी के लिए छह-सात लाख रूपए रिश्वत देने के भी पैसे घर में नहीं हैं. इसलिए परिवार वाले नौकरी के लिए शहर भेज देते हैं. लखनऊ, दिल्ली, बंबई कहीं भी.

इस नौकरी में डेढ़ दो हज़ार से लेकर छह-सात हज़ार रुपए तक मिल जाते हैं. अमित कुमार को आजकल साढ़े सात हज़ार मिलते हैं.

रुझान

थोड़ी सी बातचीत के बाद मैंने राजनीतिक रुझान पूछा, तो उन्होंने बताया कि उनके इलाके में भारतीय जनता पार्टी के प्रति रुझान है.

कन्नौज ब्राह्मण समुदाय का गढ़ माना जाता है, जिसने पिछले चुनाव में हाथी को गणेश मान कर बसपा को वोट दिया था. अमित कुमार का कहना है कि इस बार ऐसा नहीं है. मायावती को नहीं चाहते लोग.

क्यों? उनका कहना है कि मायावती ने जात-पात कुछ ज्यादा ही कर दिया, इसलिए.

उन्हें एक और शिकायत है. गाँव में दिन में बिजली नहीं आती. इसलिए पहली बार रात में पानी लगाने खेत जाना पड़ा. मुलायम राज में ऐसा नहीं था, क्योंकि दिन में बिजली मिलती थी.

बताते चलें कि कन्नौज मुलायम सिंह के बेटे अखिलेश यादव का संसदीय क्षेत्र है. लेकिन समाजवादी पार्टी को उसके परिवार का समर्थन नहीं है.

अमित कुमार का कहना है, "मुलायम की सरकार में सारे यादव लोग समझते हैं कि हमीं मुख्यमंत्री हैं."

अमित वोट डालने भले ही नहीं जा पाए, लेकिन इस बात में उनकी पूरी दिलचस्पी है कि उनके क्षेत्र से कौन विधायक होता है और कौन अगला मुख्यमंत्री बनता है.

वे उन ज़्यादा पढ़े-लिखे और संपन्न युवाओं में नहीं हैं, जिनकी दिलचस्पी राजनीति में नहीं है. क्योंकि वे स्वयं इतने सक्षम हैं कि सरकार किसी की हो उन्हें कोई फर्क नही पड़ता.

संबंधित समाचार