करीब आई विधानसभा चुनावों के नतीजों की घड़ी

  • 6 मार्च 2012
लखनऊ स्थित बसपा मुख्यालय
Image caption लखनऊ स्थित बसपा मुख्यालय के बाहर का नजारा

उत्तरप्रदेश के साथ ही उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजे मंगलवार को आने वाले हैं.

वोटों की गिनती मंगलवार सुबह आठ बजे शुरू होगी. पहले एक-दो घंटे में ही नतीजे सामने आने लगेंगे और शाम होते-होते इन राज्यों की राजनीतिक तस्वीर उभरकर सामने आ जाएगी.

उत्तरप्रदेश की 403, पंजाब की 117, उत्तराखंड की 70, मणिपुर की 60 और गोवा की 40 विधानसभा सीटों पर हुए इन चुनावों को देश में वर्ष 2014 में होने वाले लोकसभा चुनावों के लिहाज से अहम माना जा रहा है.

उत्तरप्रदेश

तमाम एग्जिट पोल में समाजवादी पार्टी को निर्णायक बढ़त मिलने की बात कही जा रही है. राज्य में विधानसभा की कुल 403 सीटें हैं.

वर्ष 2007 में हुए विधानसभा चुनावों में बहुजन समाज पार्टी ने सबसे ज्यादा 206, समाजवादी पार्टी ने 97, भाजपा ने 51 और कांग्रेस ने 22 सीटें जीती थीं.

राष्ट्रीय लोकदल को जहां 17 सीटें मिली थीं वहीं दस सीटों पर अन्य दलों के उम्मीदवार जीते थे.

राजधानी लखनऊ में मौजूद बीबीसी संवाददाताओं का कहना है कि समाजवादी पार्टी के दफ्तर में नेताओं का जमघट लगा है, वहीं कांग्रेस के खेमें में वैसी हलचल नहीं है.

उनका कहना है कि कांग्रेस अपने महासचिव राहुल गांधी को चुनावी नतीजों से दूर रखने की कोशिश कर रही है.

बहुजन समाज पार्टी के मुख्यालय में सन्नाटा सा पसरा है. लेकिन बसपा ने अपने समर्थकों पर भरोसा जताया है.

पंजाब

Image caption चंडीगढ़ स्थित कांग्रेस दफ्तर के बाहर का नजारा

पंजाब में पू्र्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस को उम्मीद है कि भाजपा-शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को सत्ता से बेदखल करने में कामयाब होगी.

चंडीगढ में मौजूद बीबीसी संवाददाता अरविंद छाबड़ा का कहना है कि पंजाब में आज तक कोई भी पार्टी दोबारा सत्ता में नहीं आ पाई है और ये कहना मुश्किल है कि क्या इस बार भी ऐसा होगा. यहां तक कि एग्जिट पोल से भी स्थिति साफ नहीं हो पाई है.

राज्य विधानसभा में कुल 117 सीटें हैं और सरकार बनाने के लिए 59 सीटों की जरूरत है.

कांग्रेस अध्यक्ष और मुख्यमंत्री पद के दावेदार अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को कहा कि पार्टी 70 सीटें जीतेगी और पार्टी बड़े आराम से सरकार बनाएगी.

उधर चंडीगढ़ स्थित कांग्रेस दफ्तर में मतदान के नतीजों आने के मद्देनजर तैयारियां जोरों से हो रही हैं. कई एलसीडी और टीवी स्क्रीनों को मंगलवार के लिए तैयार किया जा रहा था.

मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल अपने गांव बादल में ही थे. ऐसा माना जा रहा है कि नतीजे ही तय करेंगे कि वो कब चंडीगढ़ पहुंचेंगे.

उत्तराखंड

Image caption उत्तराखंड में कांग्रेस के हरीश रावत, सतपाल महाराज और इंदिरा ह्रदेश को मुख्यमंत्री पद का दावेदार माना जा रहा है

देहरादून में मौजूद बीबीसी संवाददाता शालिनी जोशी का कहना है कि उत्तराखंड विधानसभा चुनावों के नतीजे इस बार चौंकाने वाले हो सकते हैं.

उनका कहना है कि राज्य में हुए 68 प्रतिशत मतदान की वजह से माना जा रहा है कि भाजपा की मौजूदा सरकार के विरोध में जा सकता है और निर्दलीय तथा बसपा विधायकों की भूमिका बढ़ सकती है.

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक, मुख्यमंत्री खंडूरी को काम करने का ज्यादा मौका नहीं मिला और उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री निशंक के साथ ही विरोधी खेमे के विरोध का भी सामना करना पड़ा. खंडूरी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है.

गोवा

गोवा में कांग्रेस दिगम्बर कामत के नेतृत्व में दोबारा सरकार बनाना चाहेगी.

राज्य में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों ने गठबंधन बना लिए हैं. कांग्रेस ने जहां राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से गठजोड़ किया है, वहीं भाजपा ने महाराष्ट्र गोमांतक पार्टी से हाथ मिलाया है.

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 16, भाजपा को 14, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को तीन और महाराष्ट्र गोमांतक पार्टी तथा अन्य को दो-दो सीटें मिली थीं.

मणिपुर

मणिपुर में बीते विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को साधारण बहुमत मिला था जहां उसने 60 में से 31 सीटें जीती थीं. वहीं मणिपुर पीपुल्स पार्टी को पांच, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और भाकपा को चार-चार सीटें मिली थीं. अन्य पार्टियों और निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी ठीक-ठाक सीटें जीती थीं.

लेकिन कांग्रेस के मुख्यमंत्री इबोबी सिंह के लिए ये चुनाव शायद बड़ा चुनौतीपूर्ण रहा, फिर भी कांग्रेस को जीत की उम्मीद है क्योंकि राज्य में एकजुट विपक्ष का अभाव है. एग्जिट पोल भी कह रहे हैं कि राज्य में कांग्रेस दोबारा सरकार बना रही है.

संबंधित समाचार