उत्तर प्रदेश में मंत्री पद पाने की जोर-आजमाइश

अखिलेश यादव इमेज कॉपीरइट AP
Image caption कई विधायक पार्टी के शीर्ष नेताओं के चक्कर लगा रहे हैं

उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव मंत्रिमंडल में जगह पाने को लेकर समाजवादी पार्टी में जबरदस्त जोर आजमाइश जारी है. अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार मोहम्मद आजम खान और शिवपाल यादव का ही मंत्री बनना पक्का है.

ये दोनों ही नेता मुलायम सिंह यादव को मुख्यमंत्री बनाने के पक्ष में थे, लेकिन बाद में उन्होंने ही विधान मंडल दल की बैठक में अखिलेश यादव के नाम का प्रस्ताव किया.

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार पूर्व विधान सभाध्यक्ष माता प्रसाद पांडे का एक बार फिर स्पीकर बनना तय है क्योंकि इस पद के लिए और कोई दावेदार नही है. मोहम्मद आज़म खान ने साफ कह दिया है कि उनके अंदर इतनी सहन शक्ति नही है कि वह विधानसभा अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालें.

पार्टी के महासचिव प्रोफेसर राम गोपाल यादव ने बहुत खुले शब्दों में कह दिया है कि मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश यादव को मंत्रिमंडल के गठन में पूरी छूट होगी और उसमें कोई दखल नहीं देगा.

इसके बावजूद समाजवादी पार्टी के विधायक और विधान परिषद सदस्य अपनी-अपनी दावेदारी जताने के लिए वरिष्ठ नेताओं के चक्कर लगा रहे हैं.

दावेदारी

इमेज कॉपीरइट
Image caption आजम खान का मंत्री बनना तय माना जा रहा है

कई विधायक तो जीतेने के तुरंत बाद ही लखनऊ आकर पार्टी के सर्वे-सर्वा मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव से मिलकर अपनी दावेदारी जता गए थे.

इन दोनों के अलावा प्रोफेसर राम गोपाल यादव, शिवपाल सिंह यादव और मोहम्मद आजम खान के घर पर भी विधायकों की भीड़ रही.

संसद के अधिवेशन के सिलसिले में मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव दिल्ली चले गए हैं. शिवपाल यादव को भी वहीं बुला लिया गया है. समझा जाता है कि ये लोग दिल्ली में ही प्रोफेसर राम गोपाल यादव के साथ बैठकर मंत्रिमंडल को अंतिम रूप देंगे.

पार्टी नेताओं का कहना है कि इस बार समाजवादी पार्टी के टिकट पर 40 से अधिक मुस्लिम, लगभग 60 दलित और इसी तरह बड़ी संख्या में ब्राहमण और ठाकुर विधायक चुने गए हैं. मंत्रिमंडल में इन सबका सामाजिक संतुलन बनाया जाएगा.

कहा जा रहा कि युवा चेहरों में लखनऊ से चुने गए आईआईएम के पूर्व प्रोफेसर अभिषेक मिश्रा का मंत्री बनाया जाना भी लगभग तय है. वह अखिलेश यादव की युवा टीम के मेंबर हैं और उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालजी टंडन के बेटे को हराया है.

मंत्रिमंडल सदस्यों के अलावा इस समय राज्य सभा सदस्यों का चुनाव भी होना है. सूत्रों के अनुसार ब्रजभूषण तिवारी और नरेश अग्रवाल का नाम तय हो गया है, जबकि सपा को अभी चार और उम्मीदवार तय करने हैं.

संबंधित समाचार