'काम के दबाव' में एसपी ने की आत्महत्या

राहुल शर्मा
Image caption राहुल शर्मा ने अपने सुसाइड नोट में अपनी पत्नी से माफी मांगी है

बिलासपुर के पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा के कमरे से मिले सुसाइड नोट के मुताबिक उन्होंने अपने उच्च अधिकारियों की 'दखलंदाजी' और 'काम के दबाव' से तंग आकर आत्महत्या की है.

पुलिस का कहना है कि राहुल शर्मा ने मरने से पहले एक सुसाइड नोट लिखा है जिसे उनके कमरे से बरामद किया गया है. सुसाइड नोट अंग्रेजी में है और इसकी पुष्टि बिलासपुर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक ने भी की है.

सुसाइड नोट में राहुल शर्मा ने अपनी पत्नी से इस तरह का कदम उठाने के लिए माफी भी मांगी है, साथ ही कहा है कि वह दोनों बच्चों का सही ढंग से ख्याल रखे और उन्हें एक अमन पसंद नागरिक बनाए.

सोमवार की दोपहर बिलासपुर के पुलिस ऑफिसर्स मेस में उन्होंने खुद को कथित रूप से गोली मार ली थी.

दूसरी ओर राहुल शर्मा के पिता आरके शर्मा ने आरोप लगाया है कि उनका पुत्र अपने वरिष्ठ अधिकारियों की दखलंदाजी से परेशान था. उन्होंने घटना की सीबीआई से जांच कराए जाने की मांग की है.

बातचीत

पुलिस का कहना है कि उसने राहुल शर्मा के मोबाइल फोन का ब्यौरा भी निकलवा लिया है, जिसके तहत उन्होंने सुबह 9.30 बजे के आसपास अपने एक वरिष्ठ अधिकारी से बात की थी. इसके बाद उनकी किससे बात हुई, इसका पता लगाया जा रहा है.

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि घटनास्थल पर मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में ही पहुंचा गया, जिस वजह से सबूतों से छेड़छाड़ की संभावना बहुत कम है.

वहीं इस मुद्दे को लेकर छत्तीसगढ़ की विधान सभा में विपक्ष ने जोरदार हंगामा किया. विपक्ष का कहना था कि राहुल शर्मा ने आत्महत्या किन परिस्थितियों में की, इसकी जांच चाहिए.

विपक्ष के सदस्य इस मामले को लेकर सदन में हंगामा कर रहे थे. इस हंगामे के लिए अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने लगभग 21 कांग्रेसी विधायकों को निलंबित कर दिया. उनका निलंबन बाद में वापस ले लिया गया.

विपक्ष के नेता रविंद्र चौबे ने आरोप लगाया कि बिलासपुर से लेकर रायगढ़ और उत्तरी छत्तीसगढ़ के इलाकों में बड़े पैमाने पर अवैध उत्खनन का काम चल रहा है.

उनका आरोप है कि इस काम में नेता, अफसर सबकी मिलीभगत है. कांग्रेस ने मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है.

संबंधित समाचार