स्थानीय पुलिस से डरी हुई सीबीआई

  • 14 मार्च 2012
Image caption छत्तीसगढ़ के विशेष पुलिस अधिकारियों से सीबीआई भी डरी हुई है.

छत्तीसगढ़ में कुछ मामलों की जांच कर रहे सीबीआई के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें स्थानीय पुलिस अधिकारियों से जान का खतरा है.

सीबीआई के अधिकारियों ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई है कि उन्हें छत्तीसगढ़ में विशेष पुलिस अधिकारियों से बचाया जाए.

सीबीआई के अधिकारी पिछले साल मार्च में दंतेवाड़ा के ताड़मेटला और पोलमपल्ली में आदिवासियों के 300 घरों में हुई आगज़नी और को सामजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश पर हुए हमले की जांच कर रहे हैं.

एजेंसी की तरफ से इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर कर कहा गया है कि ब्यूरो के चंद अधिकारियों पर विशेष पुलिस अधिकारियों ने इस साल की नौ फरवरी को हमला किया था.

हलफनामे में कहा गया है कि उस दिन सीबीआई का एक जांच दल सुकमा गया हुआ था जब पता चला कि सुकमा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डीएस मरावी पर माओवादियों ने घात लगाकर हमला कर दिया.

इस हमले में एक एसपीओ यानी विशेष पुलिस अधिकारी कर्तम सूर्या के मारे जाने की बात कही जा रही है जबकि मरावी गंभीर रूप से घायल हुए थे.

सीबीआई के अनुसार ये कहा जा रहा था कि मरावी और उनके साथ शामिल विशेष पुलिस अधिकारी जांच के काम से गए हुए थे. मगर एजेंसी का कहना है कि इन लोगों का जांच से कोई संबंध नहीं था और ना ही इन्हें दोरनापाल बुलाया ही गया था.

कोर्ट में दिए गए हलफनामे में सीबीआई ने कहा है कि कर्तम सूर्या का शव देख कर वहां मौजूद विशेष पुलिस अधिकारी उत्तेजित हो गए थे और उन्होंने अनुसंधान के लिए गयी ब्यूरो की टीम पर हमला कर दिया.

हालांकि सीबीआई के सभी सदस्य अपने कमरों में जा छुपे थे मगर उत्तेजित विशेष पुलिस अधिकारियों ने उनके दरवाजों को बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया था. हलफनामे में कहा गया है कि यह सभी विशेष पुलिस अधिकारी हथियार बंद थे और उनके पास हथगोले भी थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption छत्तीसगढ़ में माओवादियों का सामना करने के लिए विशेष पुलिस अधिकारियों की नियुक्ति की गई थी.

हलफनामे में यह भी कहा गया है कि सीबीआई की टीम को विशेष पुलिस अधिकारियों ने तीन से चार घंटों तक बंधक बनाकर रखा.

बाद में दोरनापाल में तैनात केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल के जवानों द्वारा सीबीआई के सदस्यों को वहां से निकाला गया. इस दौरान जमकर गोलीबारी किये जाने की भी बात हलफनामे में कही गयी है.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद छत्तीसगढ़ की सरकार ने दावा किया है कि उसने विशेष पुलिस अधिकारियों का पद समाप्त कर दिया है.

उसके बदले में सहायक पुलिस बल का गठन किया गया है. कहा जा रहा है कि सारे विशेष पुलिस अधिकारीयों का समायोजन सहायक पुलिस बल में कर दिया गया है.

विशेष पुलिस अधिकारियों और कोया कमांडो पर आरोप है कि उन्होंने पिछले साल ताड़मेटला और पोलमपल्ली के इलाकों में आदिवासियों के घरों को जलाया था.

बाद में राहत लेकर जा रहे प्रशासनिक अमले पर भी विशेष पुलिस अधिकारियों नें हमला किया था. जिन अधिकारियों पर हमला किया गया था उनमे बस्तर संभाग के कमिश्नर, दंतेवाड़ा जिले के तत्कालीन कलक्टर और सुकमा के अनुमंडल अधिकारी शामिल थे. इसी दौरान राहत लेकर जा रहे सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश के काफिले पर भी विशेष पुलिस अधिकारियों नें हमला किया था.

संबंधित समाचार