छुट्टी पर भेजें वीके सिंह को: ब्रजेश मिश्र

  • 1 अप्रैल 2012
वीके सिंह
Image caption प्रधानमंत्री को लिखे जनरल सिंह के पत्र के लीक होने के बारे में मिश्र ने सेनाध्यक्ष के करीबी सहयोगियों को जिम्मेदार ठहराया.

सेनाध्यक्ष और सरकार के बीच जारी विवाद के बीच पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ब्रजेश मिश्र ने कहा है कि सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह को जबरन छुट्टी पर भेज दिया जाना चाहिए.

जनरल सिंह के 14 करोड़ रूपये के घूस देने के प्रस्ताव संबंधी आरोप पर टिप्पणी करते हुए उन्होंने कहा, ''मेरा मानना है कि कोई कार्रवाई नहीं करने के लिए मंत्री और सेनाध्यक्ष दोनों जिम्मेदार हैं.''

मिश्र ने एक टीवी कार्यक्रम 'डेविल्स एडवोकेट' में करन थापर से कहा कि आर्मी चीफ को बर्खास्त करने से समस्या का हल नहीं होगा बल्कि समस्या और बढ़ जाएगी.

उन्होंने कहा, ''सेना प्रमुख को कह देना चाहिए कि आप सरकार के वेतन पर दो महीने छुटि्टयों का आनंद उठाएं और इसके बाद घर जाएं और पेंशन लें.''

गौरतलब है कि जनरल सिंह ने आरोप लगाया था कि एक अनुबंध को मंजूरी देने के लिए उन्हें 14 करोड़ रुपए की रिश्वत देने की पेशकश की गई थी जिसके बारे में उन्होंने रक्षामंत्री को जानकारी दी थी.

'पीएम नहीं जिम्मेदार'

प्रधानमंत्री को लिखे जनरल सिंह के पत्र के लीक होने के बारे में मिश्र ने सेनाध्यक्ष के करीबी सहयोगियों को जिम्मेदार ठहराया.

उन्होंने कहा, ''प्रधानमंत्री,जिनका मैं बहुत सम्मान करता हूं, ऐसे व्यक्ति नहीं हैं जो इस तरह का कुछ लीक करें. मैं यह स्वीकार नहीं कर सकता कि प्रधानमंत्री कार्यालय में किसी नौकरशाह ने इसे बाहर दिया हो. इसलिए अगर जनरल ने इस पत्र को खुद लीक नहीं किया है तो हो सकता है कि उनके किसी मित्र ने ऐसा किया हो.''

जनरल सिंह की थ्री कार्प्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल दलबीर सुहाग के खिलाफ सीबीआई जांच कराने की सिफारिश पर उन्होंने कहा कि सेना प्रमुख ऐसा करने के लिए अधिकृत नहीं हैं.

संबंधित समाचार