आरूषि की माँ के खिलाफ वारंट जारी

आरूषि तलवार इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption 14 वर्षीया आरूषि तलवार की हत्या भारत की एक बहुचर्चित अनसुलझी आपराधिक घटना है

सीबीआई की एक विशेष अदालत ने चार साल पहले नोएडा में हुए आरूषि तलवार हत्या मामले में सह आरोपी आरूषि की माँ नुपुर तलवार की गिरफ़्तारी के लिए ग़ैर ज़मानती वारंट जारी कर दिया है.

उत्तर प्रदेश में गाजियाबाद स्थित अदालत ने सुनवाई के दौरान नुपुर तलवार के एक बार फिर गैर हाजिर रहने के बाद सीबीआई के अनुरोध पर वारंट जारी किया.

मगर उनके पति और आरूषि के पिता राजेश तलवार अदालत में सुनवाई के लिए आए थे.

सीबीआई ने 14 मार्च को एक आदेश जारी कर नुपुर तलवार को 30 दिन के भीतर अदालत के सामने हाजिर होने के लिए कहा था.

मगर उनके वकील ने ये कहते हुए सुनवाई में शामिल होने से छूट दिए जाने की माँग की थी कि सुनवाई के संबंध में सुप्रीम कोर्ट में उनकी एक याचिका पर सुनवाई होनी बाकी है.

राजेश तलवार पर पिछले साल गाजियाबाद अदालत में हमला हुआ था जिसके बाद तलवार दंपति ने सुनवाई को दिल्ली स्थानांतरित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी थी.

मगर सुप्रीम कोर्ट ने पिछले महीने उनकी अपील को खारिज कर दिया था. अब तलवार दंपति ने पुनर्विचार याचिका दी है जिसपर सुप्रीम कोर्ट में 27 अप्रैल को सुनवाई होगी.

इससे पहले मंगलवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट से भी तलवार दंपति को राहत नहीं मिली जिसने पिछले महीने जारी अपने एक आदेश को स्थगित कर दिया जिसमें गाजियाबाद अदालत से नुपुर तलवार की जमानत के आवेदन पर बिना अधिक समय ख़र्च किए फैसला करने का निर्देश दिया गया था.

हाईकोर्ट ने 13 मार्च को अपने आदेश में नुपुर तलवार से गाजियाबाद में सीबीआई की अदालत में समर्पण करने और फिर अदालत से उनके आवेदन पर फैसला करने का आदेश जारी किया था.

हत्याकांड

Image caption सीबीआई ने राजेश और नुपुर तलवार पर आरूषि और हेमराज की हत्या में लिप्त होने का आरोप लगाया है

सीबीआई ने आरूषि तलवार हत्याकांड में आरूषि की माँ नुपुर तलवार और पिता राजेश तलवार पर आरूषि और उनके नौकर हेमराज की हत्या में लिप्त होने का आरोप लगाया है. राजेश और नुपुर तलवार डेन्टल डॉक्टर हैं.

14 वर्षीया आरूषि का शव मई 2008 में नोएडा में उसके बेडरूम में मिला था. इसके अगले दिन उनके नौकर हेमराज की लाश उनके घर की छत पर बरामद की गई.

आरुषि की हत्या का आरोप सबसे पहले उसके पिता राजेश तलवार पर लगा था और हत्या के एक हफ्ते बाद ही उत्तर प्रदेश पुलिस ने पहले उन्हें गिरफ्तार किया और फिर रिहा कर दिया.

इस मामले में डॉक्टर तलवार के एक सहायक और उनके जाननेवालों के घर काम करनेवाले दो नौकरों समेत तीन अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया गया था और फिर छोड़ दिया गया.

बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस के काम के तरीके पर काफी हंगामा मचा और फिर उत्तर प्रदेश की तत्कालीन मायावती सरकार ने ये मामला सीबीआई को सौंप दिया.

जाँच के दौरान कुछ बयानों को लेकर भी नोएडा पुलिस की आलोचना हुई थी.

जाँच के कुछ ही दिन के भीतर एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मीडिया में ये कह दिया था कि आरूषि की हत्या इसलिए हुई क्योंकि उसे अपने पिता के एक कथित विवाहेतर संबंध का पता चल गया था.

इसी अधिकारी ने ये भी कह दिया था कि हो सकता है कि आरूषि की हत्या उसके और मारे गए नौकर हेमराज के बीच कोई संबंध होने के कारण हुई.

संबंधित समाचार