आठ कांग्रेस सदस्य लोक सभा से चार दिन के लिए निलंबित

 मंगलवार, 24 अप्रैल, 2012 को 17:21 IST तक के समाचार

तेलंगाना के मुद्दे पर हुए हंगामे के बीच लोकसभा में कांग्रेस के आठ सदस्यों को चार दिन के लिए निलंबित कर दिया गया है. ये सभी तेलंगाना क्षेत्र के सांसद हैं.

ये लोग अलग राज्य के मुद्दे पर बार बार सदन की कार्यवाही बाधित कर रहे थे.

जिन सदस्यों को निलंबित किया गया है उनमें पूनम प्रभाकर, मधु यशकी गौडड, एम जगननाथ, केआरजी रेड्डी, जी विवेकानंद, बलराम नायक, सुकेंदर रेड्डी और एस राजाजिहा शामिल हैं.

संसदीय कार्य मंत्री पवन कुमार बंसल ने निलंबन संबंधी प्रस्ताव रखा जिसे ध्वनि मत से पारित किया गया. इससे पहले स्पीकर की कुर्सी पर बैठे फ्रेन्सिस्को सरदिन्हा ने सांसदों को आगाह किया कि अगर वे अपनी सीटों पर नहीं लौटे तो उनके खिलाफ कार्यवाही होगी.

तेलंगाना के मुद्दे पर लोकसभा की कार्यवाही शुरु होते ही हंगामा होने लगा था और कार्यवाही स्थिगत करनी पड़ी थी. लेकिन सब कार्यवाही दोबारा शुरु हुई तो कांग्रेस सांसदों अलग तेलंगाना राज्य की माँग के समर्थन में पोस्टर लेकर आए और गर्भ गृह तक पहुँच कर नारे लगाने लगे.

ये सासंद गर्भ गृह के सामने जाकर बैठ गए और कार्यवाही फिर स्थगित करनी पड़ी.

ये पिछले कुछ वर्षों में शायद पहली बार है कि सत्ताधारी पार्टी के सांसदों को निलंबित किया गया है.

आंध्रप्रदेश में तेलंगाना के मुद्दे पर कांग्रेस पार्टी में आपस में ही काफी मतभेद हैं. तेलंगाना क्षेत्र के सांसद अलग राज्य के पक्ष में हैं.

आंध्र प्रदेश से कांग्रेस के जो 32 लोकसभा सदस्य हैं, उनमें 13 का संबंध तेलंगना से है और बाक़ी आंध्र और रायल सीमा के हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.