गुरुवार को रिहा हो सकते हैं विधायक हिकाका

  • 25 अप्रैल 2012
hikaka इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption हिकाका को उनकी पत्नी और उनके वकील को सौंपा जाएगा. तस्वीर एएफपी

ओडिशा में अगवा किए गए विधायक झीना हिकाका को गुरुवार को रिहा किया जा सकता है.

बीजू जनता दल के विधायक हिकाका एक महीने से ज्यादा समय से माओवादियों की कैद में हैं. उन्हें 24 मार्च तड़के अगवा किया गया था.

मीडिया को एक ऑडियो संदेश जारी कर माओवादियों की एक प्रवक्ता कॉमरेड अरूणा ने कहा कि हिकाका को छोड़ने का फैसला दो दिनों की 'प्रजा अदालत' में किया गया.

ये 'प्रजा अदालत' सोमवार और मंगलवार को नारायणपटना के जंगलों में लगाई गई और इसमें करीब 150 लोगों ने हिस्सा लिया.

कॉमरेड अरूणा ने कहा, "गुरुवार सुबह दस बजे से पहले हिकाका को नारायणपटना के बालिपेटा गांव में उनके वकील निहार रंजन पटनायक और पत्नी कौशल्या के हाथों सौंपा जाएगा."

साथ ही अरूणा ने मीडिया से कहा कि हिकाका सुरक्षित हैं. उन्होंने कहा, "आप उनसे अभी बात नहीं कर सकते लेकिन मैं आपको भरोसा देती हूं कि वो ठीक हैं. आप गुरुवार को उनकी रिहाई की कवरेज कर सकेंगे."

'इस्तीफा देंगे हिकाका'

साथ ही माओवादी प्रवक्ता ने कहा कि रिहाई के बाद हिकाका ओडीशा विधान सभा से इस्तीफा देंगे.

उन्होंने कहा, "हिकाका ने माना कि वो अपने इलाके का विकास करने में असफल रहे हैं. उन्होंने प्रजा कोर्ट को लिखित में कहा है कि वो विधायक पद से इस्तीफा देंगे और सत्ताधीन बीजेडी पार्टी से भी सभी संबंध तोड़ देंगे क्योंकि उसने लोगों की भलाई के लिए कुछ नहीं किया है."

कोरापुट के वकील निहार रंजन पटनायक को माओवादियों ने हिकाका की रिहाई के लिए आमंत्रित किया है.

उन्होंने बीबीसी को फोन पर बताया कि माओवादियों ने उनसे कहा है कि उनके साथ कोई भी पुलिसकर्मी नहीं होना चाहिए.

परिवार को खबर नहीं

इस बीच हिकाका की बहन विजयलक्ष्मी ने बीबीसी से कहा कि माओवादियों ने परिवार को हिकाका की रिहाई के बारे में कुछ नहीं बताया है और उन्हें सभी जानकारी सिर्फ मीडिया से मिल रही है.

उन्होंने कहा, "माओवादियों ने कितनी ही बार रिहाई की समयसीमा को बढाया है. हम उम्मीद कर रहे हैं कि इस बार कुछ अच्छा होगा."

इन रिपोर्टों पर कि हिकाका विधान सभा से इस्तीफा दे देंगे, विजयलक्ष्मी ने कहा, "अभी हम इंतजार करेंगे और चाहेंगे कि हमारा भाई वापस आए और बताए कि 'प्रजा कोर्ट' में क्या हुआ."

हालांकि हिकाका के परिवार को उनकी संभावित रिहाई पर अभी भी कुछ शक है लेकिन उनकी पत्नी कौशल्या इस खबर की खुशी में एक स्थानीय मंदिर में प्रार्थना करने गई.

संबंधित समाचार