गुजरात दंगों की जाँच के लिए नया आयोग बने: भट्ट

  • 28 अप्रैल 2012
संजीव भट्ट इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले में उन्हें राहत दी है

बर्खास्त आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट ने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से अपील की है कि वे गुजरात में वर्ष 2002 में हुए दंगों में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य लोगों की भूमिका की जाँच के लिए एक नए जाँच आयोग का गठन करें.

इस बारे में राष्ट्रपति को सौंपी अपनी याचिका में संजीव भट्ट ने लिखा है, "दंगों में नरेंद्र मोदी की भूमिका की जाँच के लिए भारत सरकार को जाँच आयोग अधिनियम, 1952 के अनुच्छेद तीन के तहत दो सदस्यों वाले एक जाँच आयोग का गठन करना चाहिए, जिसका नेतृत्व सुप्रीम कोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश करें."

संजीव भट्ट वही आईपीएस अधिकारी हैं जो नरेंद्र मोदी प्रशासन के खिलाफ खुली लड़ाई लड़ रहे हैं. उन्होंने नरेंद्र मोदी पर दंगों को लेकर गंभीर आरोप लगाए हैं.

हालांकि मोदी सरकार इसका खंडन करती है लेकिन मोदी सरकार का विरोध शुरु करने के बाद संजीव भट्ट को बर्खास्त कर दिया गया है.

पिछले ही दिनों उन्हें एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने राहत दी है.

मांग

संजीव भट्ट ने राष्ट्रपति को सौंपी अपनी याचिका में कहा है कि गोधरा और उसके बाद हुए दंगों में मुख्यमंत्री, उनके किसी अन्य मंत्री, पुलिस अधिकारियों या किसी अन्य संगठन या व्यक्ति की भूमिका की जाँच नए आयोग को करनी चाहिए.

उन्होंने कहा है, "आयोग को इस बात की भी जाँच करनी चाहिए कि 27 फरवरी 2002 के दंगा पीड़ितों को राहत पहुँचाने, उनके पुनर्वास और उन्हें न्याय दिलाने के लिए पहली जून 2002 से अब तक क्या कदम उठाए गए हैं."

उन्होंने कहा है कि इस समय दंगों की जाँच कर रहे नानावती आयोग के लिए जाँच का जो दायरा तय किया गया है, उसमें भी कमियाँ हैं.

उनका कहना है कि नानावती आयोग के लिए पहले जाँच का जो दायरा तय किया गया था उसमें गोधरा और उसके बाद हुए दंगों को रोकने के लिए उठाए गए प्रशासनिक कदमों की जाँच की बात कही गई थी लेकिन वर्ष 2004 में जब जाँच के दायरे को फिर से तय किया गया तो इस बिंदू को हटा दिया गया.

संबंधित समाचार