बिधान बरुआ के लिंग परिवर्तन पर कोई रोक नहीं: हाई कोर्ट

लड़का (फाइल)
Image caption बिधान बरूआ को लिंग परिवर्तन के लिए आपरेशन की इजाजत मिल गई है.

बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा है कि 21 वर्षीय बिधान बरुआ को लिंग परिवर्तन कराने का पूरा अधिकार है.

सोमवार को दिए गए अदालत के फैसले के मुताबिक भारत में कोई ऐसा कानून नहीं है जो लिंग परिवर्तन पर प्रतिबंध लगाता हो.

बिधान बरुआ पिछले महीने लिंग परिवर्तन के लिए गुवाहाटी से मुंबई आए थे. मुंबई के एक अस्पताल में उनका आपरेशन होना तय था लेकिन उनके माता-पिता ने शिकायत कर ऐसा करने से रोक दिया था.

उनके माता पिता लिंग परिवर्तन के खिलाफ हैं.

इसके बाद बिधान बरुआ ने बॉम्बे हाई कोर्ट में एक याचिका दर्ज की और अदालात से कहा की उसे आपरेशन कराने की अनुमति दी जाए. अदालत ने कहा कि बरुआ एक बालिग नागरिक हैं और किसी भी तरह के लिंग आपरेशन का फैसला वो ले सकते हैं.

प्रसन्न

बिधान बरुआ के वकील एजाज़ नकवी ने बीबीसी को बताया की अब उनके मुअक्किल जल्द ही एक अस्पताल में आपरेशन के लिए भरती होंगे. उन्होंने कहा बरुआ आज के फैसले से बहुत खुश हैं

पिछले हफ्ते बिधान बरुआ ने बीबीसी से बातें करते हुए कहा था की उन्होंने चीफ जस्टिस आफ इंडिया को एक चिट्ठी लिखी थी जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर उनके मामले पर जल्द फैसला नहीं लिया जाएगा तो वो आत्महत्या कर लेंगे.

अदालत ने उन्हें धमकी भरी चिट्ठी लिखने से मना किया है.

नकवी ने कहा की मुक़दमा अभी ख़त्म नहीं हुआ है. अदालत अब अगले महीने इस बात पर अपना फैसला सुनाएगी की बिधान बरुआ स्त्री हैं या पुरुष.

संबंधित समाचार