आमिर की गुहार पर गहलोत करेंगें बात

  • 9 मई 2012

फिल्म अभिनेता आमिर खान ने कन्या भ्रूण हत्या के विरुद्ध अपने कार्यक्रम 'सत्यमेव जयते ' के सिलसिले में जयपुर में राजस्थान के मुख्य अशोक गहलोत से मुलाकात की है.

आमिर खान ने राजस्थान सरकार से कन्या भ्रूण परिक्षण के मामलो की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट स्थापित करने का आग्रह किया.

अशोक गहलोत ने न केवल आमिर के कार्यक्रम की तारीफ़ की ,बल्कि उन्हें आश्वत भी किया कि सरकार इस बारे में सजग है और कार्रवाई करेगी.

आमिर का कहना था कि कोई भी बड़ा बदलाव एक दिन में आ सकता है.बशर्ते लोग अपने दिल में बदलाव ले आये.

आमिर एक दिन के लिए बुधवार को जयपुर आये.ये अपने टीवी शो के दौरान आमिर खान ने आम जनता से ये वादा किया था.

आमिर का वादा

जयपुर पहुंच कर आमिर खान सीधे मुख्यमंत्री निवास गए और कोई चालीस मिनट तक मुख्यमंत्री के साथ रहे.

मुलाकात के बाद आमिर ने कहा कि वो कोई एक्टिविस्ट नहीं है. हाँ मनोरंजन उनका काम है,मगर इसके साथ वो जागृति भी पैदा करना चाहते है.

उन्होंने कहा,'मैं लोगो के दिलों तक पहुंचना चाहता हूँ. 'मुझे कन्या भ्रूण हत्या ऐसा मुद्दा लगा जिसे उठाना ठीक था. मैं कोई तेरह मुद्दे उठा रहा हूँ,हाँ अभी बाकी मुद्दों के बारे में नहीं बताऊंगा.

क्या वो लगातार इस मुद्दे को उठाते रहेंगे? इस सवाल पर आमिर खान ने कहा कि ऐसा नहीं है,उन्होंने समाज के सामने इस मुद्दे को रख दिया.

समाज के मुद्दे

आमिर ने कहा ,"देखिये तारे जमीन से समाज में बच्चो के प्रति एक भाव पैदा हुआ.इस मामले में भी मैंने लोगो के जज्बात तक पहुंचने की कोशिश की है"

आमिर का कहना था कि उन्हे लगा कि कन्या भ्रूण परीक्षण के जो मुद्दे एक प्राइवेट टीवी के स्टिंग ओपरेशन में सामने आये है,उनकी सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक अदालत होनी चाहिए. इस स्टिंग ऑपरेशन में राजस्थान के तिरासी डॉक्टरो को कथित रूप से भ्रूण परीक्षण करते हुए या इसमें शामिल बताया गया था.

आमिर ने उन दो टीवी पत्रकारों श्री पाल शक्तावत और मीना शर्मा की भी तारीफ की जिन्होंने इस स्टिंग ऑपरेशन को अंजाम दिया.

अशोक गहलोत ने आमिर खान को पूरी कार्रवाई को भरोसा दिया.

मुख्यमंत्री ने कहा, "हम पहले से ही इस बारे में अभियान चला रहे है.अब कोई तीन सो से ज्यादा गैर सरकारी संगठनों की मदद ले रहे है.फास्ट ट्रेक कोर्ट के लिए एक कानूनी प्रक्रिया है,वे इस बारे में मुख्य न्यायाधीश से बात करेंगे."

आमिर के सत्यमेव जयते से उम्मीद की एक लौ जली है. शायद फिर कोई बेटी अपनी वेदना यूँ न बयां करे कि अगले जनम मोये बिटिया न कीजे .

संबंधित समाचार