हड़ताल खत्म होने पर ही बातचीत: अजित सिंह

  • 14 मई 2012
अजित सिंह इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption हड़ताली पायलटों को लेकर अजित सिंह किसी नरमी का संकेत नहीं दे रहे हैं.

एयर इंडिया के पायलटों की लगातार सातवें दिन जारी हड़ताल को लेकर सख्त रुख अपनाते हुए केंद्रीय नागरिक विमानन मंत्री अजित सिंह ने कहा है कि बातचीत से पहले पायलटों को हड़ताल खत्म करनी होगी.

अजित सिंह ने इस बात से इनकार किया उनका हड़ताली पायलटों से मिलने का कोई कार्यक्रम है.

उन्होंने कहा, “कोई सूचना नहीं, कोई मुलाकात नहीं. मेरे पीए ने मुझे बताया कि वे लोग आए थे, लेकिन कोई योजना नहीं थी. मुझे कुछ नहीं पता. मुझे नहीं पता चला कि वे कब आए और कब चले गए. मैंने पहले ही कह दिया है कि पहले वे हड़ताल को वापस लें और हम बात करेंगे.”

सोमवार को एयर इंडिया के पायलटों की हड़ताल सातवें दिन में प्रवेश कर गई है और यात्रियों की मुश्किलें बढ़ती जा रही है. एयर इंडिया ने 14 और उड़ानें रद्द की हैं.

इनमें से आठ अंतरराष्ट्रीय और छह घरेलू उड़ानें हैं. उड़ानें रद्द होने के कारण सैकड़ों यात्री परेशान हैं.

'यूनियन से बात नहीं'

अजित सिंह ने कहा कि वो पायलटों से बात करने को तैयार हैं, लेकिन यूनियन से बात नहीं करेंगे.

उन्होंने कहा, “मैं किसी से भी बातचीत को तैयार हूं. यूनियन की मान्यता खत्म हो गई है. इसीलिए मैं उन लोगों से यूनियन के प्रतिनिधि के तौर पर बात नहीं कर सकता. पहले उन्हें हड़ताल खत्म करने दीजिए, फिर मैं बात करूंगा. हाई कोर्ट ने हड़ताल को गैर कानूनी करार दिया है, फिर वे क्यों हड़ताल कर रहे हैं. वे कुछ मुद्दों पर अड़े हैं जिन पर बात नहीं हो सकती.”

इससे पहले उन्होंने यह स्वीकार किया था कि एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस का विलय योजना के मुताबिक नहीं हुआ था.

एक टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा, "विलय योजना के हिसाब से नहीं हुआ. अब मेरा काम ये है कि मैं देखूँ कि मौजूदा स्थिति क्या है. पिछली गलतियों से सबक सीखते हुए मैं ऐसा काम करना चाहता हूँ, जिससे एयर इंडिया सफल रहे."

मांग

पिछले कुछ दिनों में एयर इंडिया प्रबंधन ने कुल 76 पायलटों को बर्खास्त किया है. प्रबंधन ने नागरिक उड्डयन महानिदेशालय को पत्र लिखकर इंडियन पायलट गिल्ड के 11 अधिकारियों के लाइसेंस रद्द करने की मांग की है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption एयर इंडिया के यात्री उड़ानें रद्द होने से काफी परेशान है

लेकिन इन कड़े कदमों के बावजूद पायलटों पर कोई असर नहीं पड़ा है और स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है.

इस बीच हड़ताल के कारण परेशान यात्रियों ने सूचना की कमी की शिकायत की है. समाचार एजेंसियों के मुताबिक मुंबई और दिल्ली हवाई अड्डे पर बड़ी संख्या में यात्री इधर-उधर भटकते रहे और उन्हें पर्याप्त जानकारी नहीं मिल पाई.

मुंबई में नाराज यात्रियों हवाई अड्डे के बाहर की सड़क को जाम करने की कोशिश की.

माना जा रहा है कि एयर इंडिया के हड़ताली पायलट इसलिए नाराज हैं क्योंकि उन्हें प्रोमोशन नहीं मिल पा रहा है. वे इससे भी खुश नहीं है कि विलय के बाद इंडियन एयरलाइंस के पायलटों को उनकी तरह वेतन और प्रोमोशन मिले.

संबंधित समाचार