चिरंजीवी की बेटी के घर छापा, 35 करोड़ मिले

चिरंजीवी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption चिरंजीवी के विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव होना है

फिल्म स्टार से राजनेता बने चिरंजीवी राजनीतिक दृष्टि से एक मुश्किल समय से गुजर रहे हैं.

आयकर विभाग ने चेन्नई में चिरंजीवी की बड़ी बेटी सुष्मिता के ससुर शिवप्रसाद के घर और उनसे संबंधित छह और स्थानों पर छापा मारा है.

अधिकारियों ने कोई 35 करोड़ रुपए की नकद राशि और चार करोड़ रुपए की संपत्ति के कागजात जब्त किए हैं.

चेन्नई में आयकर विभाग के अधिकारियों ने बताया कि वो काफी लंबे समय से इस मामले की छानबीन कर रहे थे और ज़रूरी जानकारी जुटाने के बाद ही छापे मारे गए.

आयकर अधिकारियों का कहना है कि जब्त राशि में 500 और 1000 के नोट हैं और उन्होंने यह राशि अब रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के हवाले कर दी है.

खुश नहीं हैं चिरंजीवी

अपनी पार्टी बनाकर चुनाव जीते चिरंजीवी ने बाद में अपनी पार्टी का कांग्रेस में विलय कर लिया था और वे इस समय कांग्रेस में हैं.

जिस समय छापे मारे गए, परिवार के अधिकतर लोग अमरीका में थे.

हालाँकि अभी इस मामले का पूरा ब्यौरा सामने नहीं आया है और न यह स्पष्ट हो सका है कि यह किसके पैसे थे और वहां क्यों रखे थे.

लेकिन चिरंजीवी इन रिपोर्टों से खुश नहीं हैं जिनमें उन्हें इस मामले से जोड़ा गया है.

कुछ रिपोर्टों में कहा गया था कि यह पैसा तिरुपति विधानसभा क्षेत्र में होने वाले उपचुनाव के लिए रखा गया था.

यह स्पष्ट रहे कि अब तक चिरंजीवी इसी क्षेत्र से विधायक थे लेकिन राज्यसभा के सदस्य बनने के बाद उन्होंने त्यागपत्र दे दिया था इसीलिए अब वहां उपचुनाव होने जा रहा है.

चिरंजीवी ने कहा है कि मनगढंत रिपोर्टें देने वालों के ख़िलाफ़ वो कानूनी कार्रवाई करेंगे.

लेकिन वाईएसआर कांग्रेस के प्रवक्ता अंबति राम बाबू ने कहा है कि यह बताना चिरंजीवी का काम है कि वो पैसा कहाँ से आया.

दूसरी और चिरंजीवी ने कहा कि आयकर विभाग ने छापा उनकी बेटी के घर पर नहीं मारा बल्कि उनके ससुराल पर मारा था.

चिरंजीवी का कहना है कि उनके समधी व्यापारी हैं इसलिए उनके घर पर छापे मारे गए.

संबंधित समाचार