एयर इंडिया: शराब, कावियार 'चुराने' की जाँच

एयर इंडिया (फाइल) इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption हड़ताल ड्रीमलाइनर पर प्रशिक्षण और उड़ाने को लेकर हो रही है

नागरिक उड्डयन मंत्री अजित सिहं ने कहा है कि एयर इंडिया का कुछ स्टाफ विमानों से शराब और केवियार चुराते पाया गया था.

विमान कंपनी का सतर्कता विभाग इस बात की जांच भी कर रहा है कि एक पायलेट ने अपनी ग्राउंडिंग के दौरान किस तरह से और कैसे 2.2 करोड़ रुपए का उड़ान भत्ता हासिल किया.

मंत्री के मुताबिक पायलट ने चिकित्सा कारणों से इस अवधि के दौरान उडा़न नहीं भरी. एयर इंडिया पिछले काफी सालों से भारी घाटे में है.

विमान कंपनी के पायलट एक नए विमान में प्रशिक्षण और उड़ान के अधिकार को लेकर पिछले 10 दिनों से हड़ताल पर हैं.

161 मामले

अजित सिंह ने संसद को दिए गए एक लिखित जवाब में कहा है कि सतर्कता विभान इस तरह के 161 मामलों की जांच कर रहा है.

एक मामले में एक केबिनकर्मी को कस्टम विभाग ने तब पकड़ा जब वो विमान से शराब की 372 छोटी बोतलें लेकर जाने की कोशिश कर रहा था.

एक दूसरे मामले में एक केटरिंग अधिकारी (खाने-पीने के संबंधित विभाग) एक चार्टड विमान से बीस हजार रूपए से अधिक की कीमत के कावियार लेकर जाते हुए धरा गया.

मंत्री द्वारा दिए गए बयान में कहा गया है कि एक मामले में एक पायलट एयर इंडिया की नौकरी में रहते हुए एक दूसरी विमान कंपनी की उड़ान भर रहा था.

'कुछ पायलट भ्रष्टाचार में लिप्त'

पायलटों की यूनियन इंडियन पायल्टस गिल्ड के एक प्रवक्ता ने बीबीसी से कहा कि चोरी के कुछ मामले सामने आए हैं.

प्रवक्ता ने ये भी माना कि कुछ पायलटों को भ्रष्टाचार के मामलों में शामिल पाया गया था लेकिन उनके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं हुई.

पिछले दस दिनों से खुद को बीमार बताकर पायलटों के काम पर न जाने और उसकी वजह शुरु हुए हड़ताल के कारण एक अनुमान के अनुसार विमान कंपनी को करोड़ों का नुकसान हुआ है.

पिछले माह घाटे और कर्ज के बोझ से बुरी स्थिति में पहुंची विमान कंपनी के लिए सरकार ने 30,000 करोड़ रूपए की आर्थिक मदद देने का फैसला किया है.

संबंधित समाचार