दो सौ रूपये का पेंशन वृद्धों का अपमान: जयराम रमेश

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जयराम रमेश पेंशन की रकम बढ़ाने के पक्ष में हैं

ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने कहा है कि वृद्ध लोगों को मिलने वाला 200 रूपये का मासिक पेंशन उनका अपमान करने के बराबर है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को एक पत्र लिखकर जयराम रमेश ने वृद्ध लोगों को मिलने वाली पेंशन को बेहतर करने की सिफारिश की है.

ये पेंशन इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन स्कीम के तहत दी जाती है.

16 मई को लिखे गए इस पत्र में रमेश ने कहा, "मैं हमेशा से ये मानता आया हूं कि हम पेंशन की जो राशि दे रहे हैं वो किसी व्यक्ति की गरिमा के खिलाफ है."

जयराम रमेश ने ये मुद्दा पेंशन परिषद के संयोजक बाबा आधव और अरूणा रॉय के साथ हुई बैठक के बाद उठाया है.

पेंशन परिषद की मांग है कि पेंशन की राशि को 200 रूपये से बढ़ाया जाए, इसे लागू करने के लिए गरीबी रेखा के नियम को हटाया जाए और इसकी उम्र सीमा 60 से घटाकर पुरुषों के लिए 55 वर्ष और महिलाओं के लिए 50 वर्ष किया जाए.

समर्थन

रमेश ने चिट्ठी में लिखा, "मैं पेंशन परिषद की गरीबी रेखा के नीचे वाले नियम को हटाने का समर्थन करता हूं. साथ ही पेशन पाने वालों को रकम समय पर मिले ये भी जरूरी है. अभी उन्हें कुछ अंतराल के बाद इकठ्ठा हुई रकम मिलती है लेकिन होना ये चाहिए की पेंशन हर महीने एक निश्चित तारीख को बैंक अकाउंट में डाला जाएं."

इस संबंध में ग्रामीण विकास मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को एक प्रस्ताव पहले ही दिया है.

हालांकि पेंशन के लिए उम्र घटाने की बात का जयराम रमेश ने समर्थन नहीं किया है.

संबंधित समाचार