राजीव की हत्या के अभियुक्त 12वीं में अव्वल

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1999 में तमिल टाइगर मुरुगन, संथन, पेरारिवलन और नलिनी को मौत की सज़ा की पुष्टि की थी

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्याकांड में वेल्लोर की कड़ी सुरक्षा वाली जेल में बंद पेरारीवलन और मुरुगन ने 12वीं की परीक्षा शानदार अंकों के साथ पास की है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पेरारीवलन ने 91 प्रतिशत और मुरुगन ने 81 प्रतिशत से ज्यादा अंक हासिल किए हैं.

मार्च में हुई इस परीक्षा के लिए जेल के भीतर ही परीक्षा केंद्र बनाया गया था. कुल आठ कैदियों ने 12वीं की परीक्षा दी थी और सभी पास हो गये हैं.

पेरारीवलन मुरुगन और इस मामले में मौत की सजा पाए संथन की दया याचिका 11 वर्ष के बाद वर्ष 2011 में राष्ट्रपति ने खारिज कर दी थी. इसके खिलाफ उन्होंने याचिका दाखिल की है और अब ये मामला सुप्रीम कोर्ट में है.

राजीव गांधी की हत्या के दोषी पाए गए संथन, मुरुगन और पेरारीवलन को पिछले साल सितंबर में ही फांसी दी जानी थी. उनकी तरफ से मद्रास उच्च न्यायालय में दया याचिका दायर की गई थी जो खारिज कर दी गई.

क्षमा याचिका

राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के तीन हत्यारों की क्षमा याचिका को पिछले साल ख़ारिज कर दिया था जिसके खिलाफ ये मुकदमा दायर किया गया था.

सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1999 में तमिल टाइगर मुरुगन, संथन, पेरारिवलन और नलिनी को मौत की सज़ा की पुष्टि की थी.

बाद में नलिनी के मृत्युदंड को आजीवन कारावास में बदल दिया गया था.

मौत की सज़ा पाने वाले तीन लोगों पर आत्मघाती हमले की साज़िश रचने और उसे अंजाम तक पहुँचाने का आरोप था.

महिला आत्मघाती हमलावर ने 21 मई, 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरुंबुदूर में एक चुनावी सभा को संबोधित करने गए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कर दी थी. उनके साथ इस हमले में बीस से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

संबंधित समाचार