हम्पी एक्सप्रेस मालगाड़ी से भिड़ी, 25 की मौत

  • 22 मई 2012
दुर्घटनास्थल इमेज कॉपीरइट AP
Image caption राहत और बचाव की टीम पहुँच चुकी है.

आंध्र प्रदेश में एक यात्री ट्रेन हम्पी एक्सप्रेस के एक खड़ी हुई मालगाड़ी से टकरा जाने से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 25 हो गई है.

अनंतपुर जिले की डीआईजी चारू सिन्हा ने कहा है कि इन में से 16 यात्री उस डिब्बे में जल गए, जिसमें दुर्घटना के बाद आग लग गई थी.

अधिकारियों ने बताया कि हादसे में मरने वाले अधिकतर लोग वे मजदूर थे, जो काम के लिए बेल्लारी से बंगलौर जा रहे थे.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सदानंद गौड़ा ने कहा है कि उनके राज्य के जिस व्यक्ति की भी इस दुर्घटना में मौत हुई है उनके परिवार को एक लाख रुपए की सहायता दी जाएगी.

इस बीच आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री किरण कुमार रेड्डी और केंद्रीय रेल मंत्री मुकुल रॉय भी दुर्घटना स्थल का दौरा कर रहे हैं.

इस दुर्घटना ने पूरे इलाके में शोक की लहर दौड़ा दी है. बेल्लारी जिले के किन्चेनागुदा गाँव के एक ही परिवार के चार लोगों की मृत्यु हो गई है.

इस बीच रेलवे के डीआरएम तेजपाल सिंह ने कहा है कि सिग्नल में गलती और ड्राइवर के सतर्क न होने से यह दुर्घटना घटी है.

दुर्घटना बंगलौर से करीब सौ किलोमीटर दूर अनंतपुर जिले के पेनेकोंडा में हुई है.

मंगलवार को तड़के करीब तीन बजे हुई हुबली से बंगलौर जा रही ट्रेन हम्पी एक्सप्रेस की इस टक्कर से तीन बोगियों को नुकसान पहुँचा है.

कहा जा रहा है कि कुछ यात्री अभी भी बोगियों में फँसे हो सकते हैं. राहत दल वहाँ पहुँच चुके हैं और घायलों को हिंदूपुर के अस्पताल पहुँचाया गया है.

तीन डिब्बे क्षतिग्रस्त

अनंतपुर के जिलाधीश दुर्गादास ने बीबीसी को बताया कि दुर्घटना में सबसे अधिक महिला बोगी को नुकसान पहुँचा है.

उनका कहना है, "मालगाड़ी को खडा़ देखकर हम्पी एक्सप्रेस के ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाए थे वरना दुर्घटना और बडी़ होती."

उधर दिल्ली में एक टीवी चैनल से हुई बातचीत में रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी अनिल सक्सेना ने बताया कि मालगाड़ी से हुई टक्कर में इंजन से लगी तीन बोगियों को नुक़सान पहुँचा है.

उन्होंने बताया कि पहला डिब्बा जो गार्ड और सामान का था, उसमें आग भी लग गई थी जिस पर काबू पाया जा चुका है.

उनके अनुसार पहला और तीसरा डिब्बे पटरी से भी उतर गए थे.

जनसंपर्क अधिकारी के अनुसार घटनास्थल पर वरिष्ठ अधिकारी पहुँच गए हैं साथ ही रेलवे के डॉक्टरों की एक टीम राहत ट्रेन के साथ वहाँ पहुँच गई है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार