देश के आर्थिक हालात पर कांग्रेस चिंतित

  • 4 जून 2012
कॉंग्रेस की बैठक इमेज कॉपीरइट Reuters

सोमवार को कांग्रेस पार्टी की कार्यसमिति यानी सीडब्ल्यूसी की बैठक में बढ़ती महंगाई और देश के आर्थिक हालात पर चिंता जाहिर की गई है.

साथ ही कार्यसमिति की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को देश का अगला राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार चुनने की जिम्मेदारी सौंपी गई.

बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कांग्रेस पार्टी के महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने कहा, "राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति की उम्मीदवारी के लिए नाम के चयन का अधिकार अध्यक्ष सोनिया गांधी को दिया गया है. ये प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित हुआ."

इस बैठक में कॉंग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने देश के आर्थिक हालात पर चिंता व्यक्त की. अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि जिस तरह पिछले दिनों आर्थिक विकास की गति धीमी हुई है वह चिंता का सबसे बड़ा कारण है.

वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, "इसमें कोई दो राय नहीं है कि विकास में कमी आई है. विकास दर पहले की आकलन से भी कम आ रही है. बैठक में महंगाई को कम करने के उपायों पर चर्चा की गई."

राज्यों को चिट्ठी

प्रणब मुखर्जी ने यह भी कहा कि पेट्रोल के दाम पर भी कार्यसमिति में चर्चा की गई. उन्होंने कहा कि पेट्रोल की कीमत घटाने की जिम्मेदारी राज्यों पर भी है.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption वित्त मंत्री ने कहा कि राज्यों को पेट्रोल पर कर कम करना चाहिए.

वित्त मत्री ने कहा कि उन्होंने राज्यों को चिट्ठी लिखी है कि पेट्रोलियम उत्पादों के कीमत को कम करने के लिए उन्हें भी कदम उठाने पड़ेंगे. प्रणब मुखर्जी ने राज्यों से कहा कि उन्हें भी कुछ त्याग करना पड़ेगा और कर की दर को 25 फीसदी तक घटाना होगा.

वित्त मंत्री ने कहा कि देश के मौजूदा आर्थिक हालात को 1991 के आर्थिक संकट से तुलना करना गलत होगा.

इससे पहले बैठक में सोनिया गांधी ने विपक्षी दलों की आलोचना की. हालांकि सोनिया गांधी ने टीम अन्ना का तो नाम नहीं लिया, लेकिन परोक्ष रूप से उनपर भी हमला बोला.

वैसे कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष को पूरा अधिकार है कि वे सरकार की आलोचना करे, लेकिन जिस रूप में वे प्रधानमंत्री और यूपीए सरकार पर हमला कर रहे हैं, वो दुर्भाग्यपूर्ण हैं.

सोनिया गांधी ने कहा कि वे लोग किसी साजिश के तहत हमारे खिलाफ अनर्गल आरोप लगा रहे हैं.

सीडब्ल्यूसी की बैठक में हिमाचल प्रदेश और गुजरात में होने चुनाव की तैयारी शुरु करने पर भी चर्चा हुई.

संबंधित समाचार