मानसून केरल पहुँचा, अब पश्चिम की ओर

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कोच्चि में तट पर हिंद महासागर के ऊपर कुछ दिनों से बादल घुमड़ रहे थे

भारत में मानसून केरल के तटीय इलाकों में पहुँच गया है जिससे वहाँ मंगलवार को बारिश हुई.

मौसम विभाग के अनुसार मानसून ने चार दिन की देरी से दक्षिण पश्चिमी तट पर दस्तक दी है.

भारतीय मौसम विभाग के निदेशक बी पी यादव ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा,”मानसून आज केरल पहुँच गया और अब ये देश के पश्चिमी तट की ओर बढ़ेगा.”

उन्होंने बताया कि मंगलवार को हुई बारिश साधारण रही और अनुमान है कि इस साल मानसून औसत रहेगा.

उन्होंने कहा कि केरल में कुछ दिनों से छिटपुट बारिश हो रही थी मगर तय मापदंडों के हिसाब से मानसून मंगलवार को ही पहुँचा है.

बी पी यादव ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा कि वे इस साल मानसून की बारिश की समीक्षा 25 जून के आस-पास करेंगे जब मानसून से देश के आधे भू-भाग में बारिश हो जाएगी.

भारत में चार महीनों तक रहनेवाला मानसून सामान्यतः हर साल एक जून तक दक्षिण पश्चिमी हिस्सों में पहुँच जाता है जिससे सितंबर तक बारिश होती है.

जुलाई के मध्य तक मानसून देश के शेष इलाकों और भारत के पड़ोसी देशों बांग्लादेश, भूटान और नेपाल तक पहुँच जाता है.

मौसम विभाग ने इस वर्ष लगातार तीसरे साल औसत मानसून की भविष्यवाणी की है.

पिछले साल उसने मानसून के 31 मई तक पहुँचने की भविष्यवाणी की थी मगर वर्षा दो दिन पहले ही शुरू हो गई.

संबंधित समाचार