नक्सली मुठभेड़ में अर्धसैनिक बल के जवान की मौत

माओवादी हमला (फाइल)
Image caption माओवादियों ने पहले भी सुरक्षाबलों के वाहनों को निशाना बनाया है.

बिहार पुलिस ने कहा है कि रविवार सुबह गया जिले के डुमरिया थाने में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गई है जबकि तीन घायल हैं.

राज्य पुलिस महानिदेशक अभयानंद ने बीबीसी को बताया कि मुठभेड़ में अर्धसैनिक बल के एक जवान की मौत हो गई है जबकि तीन अन्य जवान गंभीर रूप से घायल हैं.

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक और पुलिस प्रवक्ता रविंद्र कुमार ने कहा है कि दो घायल जवानों को गया के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

अपुष्ठ खबरों के मुताबकि बलथरवा गांव के पास हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों के कई वाहन और मोटरसाइकल नष्ठ हो गए हैं जबकि बारूदी सुरंग से भी कुछ नुकसान हुआ है.

ये साफ नहीं हो पा रहा है कि बारूदी सुरंग विस्फोट के समय क्या सुरक्षाकर्मी वाहन में सवार थे? या फिर उसके आसपास मौजूद लोगों में से कितनों को नुकसान उठाना पड़ा है.

पुलिस महानिदेश ने कहा कि एक वाहन को नुकसान पहुंचा है लेकिन "अभी इस मामले में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है."

उन्होंने कहा कि हमले में तीन या चार माओवादी भी मारे गए हैं. हालांकि पुलिस को उनके शव अभी हासिल नहीं हुए हैं.

सुनियोजित हमला

अभयानंद का कहना था कि पुलिस ने बलथरवा गांव में मीटिंग कर रहे माओवादियों के एक दस्ते पर सुनियोजित तरीके से हमला किया और बैठक स्थली को चारों ओर से घेर लिया था जिसके बाद माओवादियों की तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई.

हालांकि माओवादियों के एक प्रवक्ता ने बीबीसी को फोन करके दावा किया था कि उन्होंने वाहनों और मोटरसाइकिलों पर पिछले कई दिनों से इलाके की गश्त कर रहे सुरक्षाकर्मियों पर तब हमला कर दिया जब वो बलथरवा के जंगलो वाले क्षेत्र से गुजर रहे थे.

प्रवक्ता के अनुसार मुठभेड़ सुबह छह बजे शुरू हुई थी और उसमें बारूदी सुरंगों और दूसरे विस्फोटकों का भी इस्तेमाल किया गया.

बाद में जिला मुख्यालय ने अतिरिक्त पुलिस बल घटनास्थल रवाना किया. छिटपुट मुठभेड़ अभी भी जारी है.

संबंधित समाचार