हेडली व राणा से पूछताछ का मौका मिले: कृष्णा

कृष्णा इमेज कॉपीरइट AP
Image caption विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि अमरिका और भारत आतंकवाद और अन्य मुद्दों पर सूचनाएं सांझा कर रहे हैं.

भारत ने अमरीका से 2008 में मुंबई में हुए हमलों की साजिश में शामिल होने के आरोपी डेविड कोलमैन हेडली और तहव्वुर राणा के पूछताछ करने की इजाजत माँगी है.

यह दोनों ही इस समय अमरीकी जांच एजेंसियों की हिरासत में हैं.

भारत-अमरीका रणनीतिक वार्ता की तीसरी बैठक में अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन के साथ मुलाकात के बाद साझा संवाददाता सम्मेलन में विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने कहा, “कानूनी प्रक्रियाओं के मद्देनजर 2008 में मुंबई में हुए हमलों की जांच के लिए भारत हेडली और राणा से पूछताछ करना चाहता है.”

इस पर हिलेरी क्लिंटन ने कहा, “दोनों देश आतंकवाद और अन्य मुद्दों पर सूचनाएं साझा कर रहे हैं. सूचनाएं साझा करना हमारी नीति है और यह हम करते हैं. मैं इस पर विस्तार में नहीं जाना चाहती लेकिन खुफिया सहयोग, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और गृह सुरक्षा के मामले में दोनों देशों के बीच सहयोग बिलकुल नए स्तर पर पहुंच चुका है.”

हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि भारत और अमरीका के बीच रिश्ते अब एक 'नए और परिपक्व दौर' में पहुंच रहे हैं.

हिलेरी का कहना था, “भारत और अमरीका के बीच दोस्ती और सहयोग की बुनियाद मजबूत है. लेकिन आज हम कुछ नया ही देख रहे हैं. हमारे सामरिक हित हमारे देशों को और करीबी सहयोग की ओर ले जा रहे हैं. सामरिक हितों में हमारे समान जनतात्रिक मूल्य तो हैं ही, इसके अलावा इसमें हमारे आर्थिक, कूटनीतिक और हमारी सुरक्षा की प्राथमिकताएं भी शामिल हैं.”

सामरिक सहयोग

दोनों देशों ने सुरक्षा और आर्थिक मामलों के अलावा विश्व और क्षेत्रीय स्तर के अहम सामरिक विषयों पर भी सहयोग बढ़ाने की बात कही है.

इस मौके पर कृष्णा ने कहा,“इस बैठक के लिए हमारी यहां मौजूदगी हमारे देशों के बीच रिश्तों में गहराई दर्शाती है. हमारे देशों के बीच साझा हितों के लिए विश्व और क्षेत्रीय स्तर पर सहयोग और सोच में समानता भी है. इससे हमारे सामरिक रिश्तों को और गति मिलती है. हमारे देशों के बीच आर्थिक सहयोग की भी व्यापक क्षमताएं हैं और हम उसमें भरपूर सहयोग भी करेंगे .”

भारतीय विदेश मंत्री ने कहा कि अमरीका विदेश मंत्री के साथ बातचीत के दौरान उन्होंने पाकिस्तान में चरमपंथिंयों की पनाहगाहों को खत्म करने के मुद्दे पर जोर दिया है.

परमाणु करार से खुशी

इसके अलावा उन्होंने अफ़्गानिस्तान में भारत द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में मदद करने पर भी जोर दिया.

अमरीका विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने इस बात पर संतोष जताया कि भारत ने ईरान से तेल का आयात कम कर दिया है. क्लिंटन का कहना था कि भारत को ऊर्जा की सख्त ज़रूरत है और उसे इस सिलसिले में अमरीका की भरपूर मदद मिलेगी.

दोनों नेताओं ने परमाणु करार के तहत भारत के परमाणु ऊर्जा कॉरपोरेशन और अमरीका कंपनी वेस्टिंगहाउस के बीच समझौता होने पर भी खुशी का इज़हार किया.

इस समझौते के तहत गुजरात में कई परमाणु प्लांट लगाए जाने में मदद मिलेगी.

संबंधित समाचार