संगमा ने फिर प्रणब मुखर्जी को घेरा

  • 7 जुलाई 2012
पीए संगमा इमेज कॉपीरइट AP
Image caption भाजपा के साथ-साथ कई विपक्षी पार्टियाँ संगमा का समर्थन कर रही हैं

राष्ट्रपति पद के लिए कई विपक्षी पार्टियों के उम्मीदवार पीए संगमा ने एक बार फिर ये आरोप लगाया है कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी अब भी दो लाभ के पदों पर बने हुए हैं.

उन्होंने इस मामले में चुनाव आयोग के दखल की मांग की है.

इस संबंध में उनकी पहली शिकायत को रिटर्निंग अधिकारी ने खारिज कर दिया गया. इस पर संगमा ने असंतोष जताया.

संगमा की ओर से तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की. चुनाव आयोग ने उनसे कहा कि वे सोमवार शाम तक अपनी मांग लिखित में दें.

दावा

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption प्रणब मुखर्जी पर अब भी लाभ के पदों पर बने रहने का आरोप है

बैठक के बाद जनता पार्टी के अध्यक्ष सुब्रह्मण्यम स्वामी ने दावा किया कि प्रणब मुखर्जी अब भी लाभ के दो पद पर बने हुए हैं. उन्होंने बताया कि प्रणब मुखर्जी बीरभूम इंस्टीच्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नॉलॉजी के उपाध्यक्ष और रबींद्र भारती सोसाइटी के चेयरमैन भी हैं.

उन्होंने बताया कि प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपत से मुलाकात की और उन्हें अपनी चिंता से अवगत कराया. संविधान के तहत चुनाव की आचार संहिता के मामले में आयोग दखल दे सकता है.

सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा, "यहाँ मुद्दा धोखेबाजी का है. अब चुनाव आयोग ये फैसला करे कि क्या नामांकन प्रक्रिया में कोई धोखाधड़ी हुई है या नहीं. अब चुनाव आयोग ही इस पर आखिरी फैसला करेगा."

इस प्रतिनिधिमंडल में भारतीय जनता पार्टी के नेता और संगमा के वकील सत्यपाल जैन और उनके चुनावी एजेंट भरतृहरी महताब भी शामिल थे.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार