पागलखाने में महिला की 'रहस्यमयी मौत'

  • 13 जुलाई 2012
खोदी गई कब्र
Image caption गुरिया के शव को कब्र से निकाल कर पुलिस अब उसका पोस्टमॉर्टम करा रही है.

पश्चिम बंगाल पुलिस ने पागलखाने में रहने वाली मानसिक रूप से विक्षिप्त एक महिला की रहस्यमयी हत्या मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है.

हत्या के बाद इस महिला के शव को पागलखाने के परिसर में दफना दिया गया था. लेकिन विवाद बढ़ने के बाद शव को कब्र से बाहर निकाला गया है और शुक्रवार को कोलकाता के एक अस्पताल में शव का पोस्टमॉर्टम हो सकता है.

पुलिस का कहना है कि मुख्य संदिग्ध फरार हैं.

एक स्थानीय टीवी चैनल ने अपने एक स्टिंग ऑपरेशन में दावा किया है कि मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला गुरिया का पहले बलात्कार किया गया और फिर उसकी हत्या कर दी गई.

चैनल ने कहा कि उसके बाद गुरिया का शव हुगली जिले के धानेखाली इलाके में बने पागलखाने के परिसर में दफना दिया गया.

न्यायिक जांच के आदेश

पुलिस को संदेह है कि इस घटना में आश्रम के अधिकारी भी शामिल हैं.

राज्य की सामाजिक कल्याण मंत्री साबित्री मित्रा ने कहा, “एक स्वंयसेवी संस्था की देख-रेख में चलाए जा रहे इस पागलखाने के लाइसेंस को रद्द कर गया है और उसमें रहने वाले लोगों को हम जल्द दूसरी जगह पर स्थानांतरित कर देंगे.”

सरकार ने इस पूरे मामले की न्यायिक जांच कराने का आदेश दिया है.

इस बीच राष्ट्रीय महिला आयोग और राज्य के मानवाधिकार आयोग ने इस मुद्दे पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

आरोप है कि जो व्यक्ति मानसिक रूप से विक्षिप्त लोगों को खाना देने का काम करता था उसी ने 26 जून को गुरिया का बलात्कार किया और उत्पीड़न के बाद उसकी मौत हो गई.

गुरिया का शव पांच दिन तक एक कमरे में रखा रहा जिसके बाद शव को पागलखाने के पीछे ही दफना दिया गया.

'नियमों का उल्लंघन'

आश्रम के अधिकारियों से इस मुद्दे पर संपर्क नहीं हो पाया है. लेकिन जैसे ही टीवी स्टिंग ऑपरेशन प्रसारित हुआ, स्थानीय विधायक आशिमा पत्रा ने घटनास्थल पर पहुंच कर अधिकारियो से बात की.

बाद में पत्रा ने बीबीसी को बताया, “पागलखाने के अधिकारियों ने बताया कि उस महिला की मौत खिड़की से गिर जाने के बाद हुई. उन्होंने उसका मृत्यु प्रमाण पत्र भी हासिल किया है. अधिकारियों का कहना है कि उन्हें गुरिया के धर्म की जानकारी नहीं थी इसलिए शव को दफना दिया गया.”

मंत्री साबित्री मित्री ने कहा, “नियमों के मुताबिक हर मौत के बारे में मेरे मंत्रालय को सूचित किया जाना चाहिए. लेकिन इस महिला की मौत के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई. हम इस जघन्य अपराध में शामिल किसी भी व्यक्ति को नहीं छोड़ेंगे.”

संबंधित समाचार