हामिद अंसारी: राजनयिक से उपराष्ट्रपति पद तक

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption हामिद अंसारी ने वर्ष 2007 में उपराष्ट्रपति का पद संभाला था

शनिवार शाम को सत्ताधारी यूपीए की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मौजूदा उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के नाम की दोबारा इस पद की उम्मीदवारी के लिए घोषणा कर दी.

हामिद अंसारी का जन्म कलकत्ता में एक अप्रैल, 1937 को हुआ था लेकिन उनका परिवार उत्तर प्रदेश में ग़ाज़ीपुर का रहने वाला है.

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा पाने के बाद हामिद अंसारी 1961 में भारतीय विदेश सेवा में चयनित हुए.

वे यूएई, अफ़ग़ानिस्तान, ईरान और सउदी अरब में भारतीय राजदूत और ऑस्ट्रेलिया में भारतीय उच्चायुक्त के पद पर भी रहे.

वर्ष 1993 से 1995 तक वे संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि रहे.

इसके अलावा हामिद अंसारी ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष और उससे पहले अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति का पद भी संभाला.

हामिद अंसारी को 1984 में पदमश्री से सम्मानित किया गया था.

राजनीतिक सफर

हामिद अंसारी वर्ष 2007 में भारत के 12वें उपराष्ट्रपति चुने गए थे.

वे यूपीए और वामपंथी पार्टियों के साझा उम्मीदवार थे.

उनके ख़िलाफ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की तरफ से नजमा हेपतुल्ला और संयुक्त राष्ट्रीय प्रगतिशील गठबंधन(यूएनपीए) की तरफ से रशीद मसूद उम्मीदवार थे.

लेकिन चुनाव में शुरू से ही हामिद अंसारी की जीत तय मानी जा रही थी.

उपराष्ट्रपति के चुनाव में अंसारी को 455 और हेपतुल्लाह को 222 मत मिले जबकि तीसरे नंबर पर आने वाले रशीद मसूद को 75 मतों पर ही संतोष करना पड़ा था.

उपराष्ट्रपति के पद पर उनका कार्यकाल विवादरहति रहा है.

कई कठिन परिस्थितियों में उन्होंने यूपीए को संकट से उबरने में मदद की.

संबंधित समाचार