हामिद अंसारी उपराष्ट्रपति पद के लिए यूपीए के उम्मीदवार

  • 14 जुलाई 2012
हामिद अंसारी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption अभी तय नहीं है कि हामिद अंसारी को यूपीए के सभी घटक दलों का समर्थन मिल ही जाएगा

केंद्र में सत्तारूढ़ गठबंधन यूपीए ने मौजूदा उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को दोबारा उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा की है.

हामिद अंसारी को औपचारिक रूप से उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के घर पर हुई यूपीए की बैठक के बाद चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने ख़ुद की.

राष्ट्रपति के मुद्दे पर यूपीए से अलग-थलग खड़ी तृणमूल कांग्रेस की ओर से रेलमंत्री मुकुल रॉय यूपीए की इस बैठक में उपस्थित थे.

उन्होंने अपनी ओर से पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गांधी और कृष्णा बोस का नाम प्रस्तावित किया.

हामिद अंसारी का जीवन परिचय

बाद में एक टीवी चैनल से उन्होंने कहा कि यूपीए बैठक का फ़ैसला वे पार्टी अध्यक्ष ममता बनर्जी को दे देंगे और फिर पार्टी इस पर विचार करके फ़ैसला लेगी.

राष्ट्रपति पद के लिए ममता बनर्जी ने अब तक प्रणब मुखर्जी को समर्थन देने का फ़ैसला नहीं किया है.

अनुभवी राजनयिक

75 वर्षीय हामिद अंसारी जल्द ही उपराष्ट्रपति के पद पर अपना पहला कार्यकाल पूरा करने वाले हैं.

अगर वे इस चुनाव में जीत जाते हैं तो स्वतंत्र भारत के इतिहास में वे सर्वपल्ली राधाकृष्णन के बाद दूसरे व्यक्ति होंगे जिन्हें दूसरी बार उपराष्ट्रपति बनने का मौक़ा मिल रहा है.

उनके नाम की घोषणा करते हुए सोनिया गांधी ने कहा, "हामिद अंसारी को दूसरी बार राष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार घोषित करते हुए यूपीए अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहा है."

हामिद अंसारी एक अनुभवी राजनयिक होने के अलावा राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कुलपति भी रह चुके हैं.

वर्ष 2007 में वे नजमा हेपतुल्ला को हराकर उपराष्ट्रपति बने थे.

उस समय यूपीए-1 को बाहर से समर्थन दे रहे वामपंथी दलों ने हामिद अंसारी का नाम उपराष्ट्रपति पद के लिए प्रस्तावित किया था जिसे कांग्रेस ने स्वीकार कर लिया था.

राजनीतिक दलों का समर्थन

हामिद अंसारी का नाम घोषित होने के पहले ही कहा जा रहा था कि वे इस पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे हैं.

यूपीए की घोषणा के बाद यह संभावना बलवती हो गई है कि वे दूसरी बार उपराष्ट्रपति बन जाएँ.

हालांकि अभी तृणमूल कांग्रेस ने कोई फ़ैसला नहीं किया है लेकिन इस बैठक से पहले पार्टी ने कह दिया है कि वह इस मामले में खुले दिमाग से विचार करेगी.

राष्ट्रपति चुनाव में यूपीए का समर्थन कर रहे समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का समर्थन भी हामिद अंसारी को मिल जाएगा.

ख़बरें हैं कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने हामिद अंसारी के नाम पर सर्वसम्मति बनाने के लिए प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से बातचीत की है.

भाजपा की औपचारिक प्रतिक्रिया अभी सामने नहीं आई है लेकिन भाजपा नेता पहले कह चुके हैं कि वे यूपीए के उम्मीदवार को समर्थन देने की जगह अपना उम्मीदवार खड़ा करेंगे.

इसके अलावा राष्ट्रपति चुनाव में यूपीए उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी का समर्थन कर रहे जेडीयू का फ़ैसला भी अहम होगा.

संबंधित समाचार