नेपालः बस नहर में गिरी, 39 की मौत

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

नेपाल में भारतीय सीमा के पास रविवार दोपहर एक बस के नहर में गिर जाने से कम-से-कम 39 लोग मारे गए हैं और कई अन्य की तलाश की जा रही है.

हादसा दक्षिण पश्चिमी नेपाल के नवलपरासी ज़िले में हुआ जो राजधानी काठमांडू से लगभग 200 किलोमीटर और भारतीय सीमा से कुछ किलोमीटर की दूरी पर है. नहर का नाम गंडक नहर है.

नवलपरासी के मुख्य ज़िला अधिकारी बीर बहादुर राय ने बीबीसी नेपाली सेवा के संवाददाता सुरेंद्र फ़ुयाल को बताया कि बचाव कार्य जारी है और अभी तक 10 लोगों को जीवित बचाया जा सका है.

उन्होंने कहा,"तलाशी के लिए नहर का पानी रोक दिया गया है. बचाए गए लोगों और स्थानीय लोगों के अनुसार बस पर 100 से ज़्यादा लोग सवार थे जिनमें अधिकतर तीर्थयात्री थे. हम इसकी पुष्टि करने का प्रयास कर रहे हैं."

गंडक नहर का पानी नवलपरासी से भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश की ओर जाता है और बीबीसी संवाददाता के अनुसार रविवार शाम तक नहर में पानी का स्तर घुटना भर रह गया था.

कारण

संवाददाताओं के अनुसार खचाखच भरी बस की छत पर भी लोग बैठे थे जब वो त्रिवेणी गाँव में स्थित गंडक बाँध के पास गंडक नहर में गिर गई.

बचाव कार्य का नेतृत्व कर रहे पुलिस अधीक्षक ज्ञान बिक्रम शाह ने बताया कि बस में सवार अधिकतर यात्री उत्तर प्रदेश के महाराजगंज ज़िले से आए तीर्थयात्री थे.

संवाददाताओं के अनुसार अधिकतर यात्री सावन के महीने में होनेवाले धार्मिक पर्व बोल बम के लिए जल लेने नेपाल के प्रख्यात हिंदू तीर्थस्थल त्रिवेणी धाम जा रहे थे जो भगवान शिव को अर्पित किया जाता है.

दुर्घटना के असल कारण अभी स्पष्ट नहीं है मगर अधिकारियों का कहना है कि इसके लिए आवश्यकता से अधिक सवारियों को बिठाना एक कारण हो सकता है.

पुलिस अधिकारी शाह ने बताया,"कारण ओवर लोडिंग, तेज़ गति और ड्राईवर का अधिक शराब पीना हो सकता है."

भारत और दक्षिण नेपाल में सोमवार से शुरू हो रहे श्रावण महीने में श्रद्धालु जत्थों में केसरिया वस्त्र पहनकर काँवड़ लेकर नदियों और मंदिरों की यात्रा करते हैं.

संबंधित समाचार