उद्धव और राज ठाकरे के बीच घटती दूरियां !

राज ठाकरे
Image caption राज ठाकरे ने 2005 में शिवसेना छोड़ दी थी.

शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे और उनके चचेरे भाई व महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे के नजदीकियां बढ़ती दिख रही है.

दरअसल सोमवार को उद्धव की एंजियोग्राफी हुई और इसके बाद राज ठाकरे उन्हें खुद गाड़ी चला कर उनके घर छोड़ने गए. ऐसे में दोनों भाइयों के रिश्ते जमी 'बर्फ' के पिघलने की संभावना पैदा हो सकती है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार उद्धव को छाती में दर्द के बाद मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था जिसके कुछ देर बाद उनकी (रक्त धमनियों को खोलने के लिए) एंजियोग्राफी की गई.

उद्धव के अस्पताल में भर्ती होने की खबर सुनकर राज सीधे अस्पताल पहुंचे जबकि उस वक्त वो अपनी पार्टी की एक बैठक में हिस्सा लेने जा रहे थे.

जब उद्धव को अस्पताल से छुट्टी दी गई तो राज उन्हें ठाकरे परिवार के निवास 'मातोश्री' तक छोड़ने गए.

वैसे दोनों भाई अकसर एक दूसरे खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं और उनकी पिछली मुलाकात 2008 में हुई थी. ये मुलाकात भी उस समय हुई थी जब राज शिव सेना प्रमुख बाल ठाकरे की बीमारी के वक्त उनसे मिलने गए थे.

उद्धव ठाकरे ही 2004 से शिवसेना को चला रहे हैं. 2005 में राज ठाकरे ने शिव सेना छोड़ी थी और उसके अगले साल अपनी खुद की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण पार्टी बनाई थी.

उस वक्त उन्होंने अपने इस फैसले की वजह उद्धव ठाकरे और ‘मंडली’ को जिम्मेदार बताया था.

संबंधित समाचार