बेटी का बलात्कार कर देह व्यापार में धकेला

लड़की
Image caption भारत में कई मामलों में सगे संबंधी ही लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार करते हैं.

क्या कोई बाप अपनी ही बेटी का बलात्कार कर सकता है. अगर आपको ऐसा लगता कि ऐसा संभव नहीं तो फिर एक बार सोचिए.

किसी दूसरे देश में नहीं बल्कि भारत में ऐसा मामला सामने आया है.

केरल के सुधीर नाम के एक व्यक्ति ने न केवल अपनी बेटी का बलात्कार किया बल्कि पैसों के लिए उसे कम से कम 200 लोगों के साथ यौन संबंध बनाने पर मजबूर भी किया.

यह मामला पिछले साल प्रकाश में आया था और अब इस मामले में कोर्ट ने सुधीर को सज़ा सुनाई है.

पिछले साल पीड़ित लड़की ने एक टीवी चैनल से कहा था, ‘‘पहले मेरे पिता ने तब मेरा बलात्कार किया जब मेरी मां घर पर नहीं थी. बाद में वो मुझे अलग-अलग जगह ले जाने लगे और वो कहते थे कि मुझे फिल्मों में काम मिलेगा.’’

यह लड़की अब किशोरों के लिए बने सरकारी आवास में रह रही है.

केरल की एक अदालत ने अब सुधीर को एक मामले में आजीवन कारावास की सज़ा दी है और अभी सुधीर पर 49 अन्य मामले चल रहे हैं.

बेटे को पुल से लटकाया

जेल की सज़ा के अलावा सुधीर पर 50 हज़ार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है. उन पर अपनी 14 वर्षीय बेटी का बलात्कार करने और अपने छोटे बेटे को उलटा लटका कर जान से मारने की धमकी देने का आरोप सिद्ध हुआ है.

हालांकि मामले की सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष के 46 गवाहों में से सुधीर की पत्नी और उनका छोटा बेटा अपने बयान से पलट गए. पहले दोनों ने सुधीर के अत्याचार का शिकार होने का दावा किया था.

पुलिस के अनुसार सुधीर अपनी बेटी को एक नदी के पुल पर ले गया और धमकी दी कि उसे नदी में फेंक देगा. जब लड़की ने उसकी बात नहीं मानी तो सुधीर ने उसके छोटे भाई को पुल से नीचे लटका दिया जिसके बाद लड़की अपने पिता के साथ जाने को राज़ी हुई.

इस घटना के बाद सुधीर ने अपनी बेटी से देह व्यापार शुरु करवा दिया.

सुधीर अपनी बेटी के साथ न केवल जबरिया शारीरिक संबंध बनाता था बल्कि वो उसे मारपीट कर अन्य लोगों के साथ संबंध बनाने के लिए मजबूर भी करता था.

पड़ोस के लोगों से वो कहता था कि उसकी बेटी को फिल्मों में छोटे रोल मिल रहे हैं इसलिए वो बार-बार बेटी को बाहर ले जाता है.

इस मामले में लड़की के रिश्तेदारों के हस्तक्षेप के बाद ही मामला पुलिस तक पहुंच पाया.

ऐसे पिता और भी

अर्नाकुलम के अतिरिक्त सत्र न्यायालय के न्यायाधीश पीजी अजित कुमार ने कहा कि भारत में कुल 26 ऐसे मामले हैं जिसमें लोगों ने अपनी बेटियों का बलात्कार किया है.

हालांकि सुधीर का एकमात्र मामला ऐसा है जिसमें सुधीर ने न केवल अपनी बेटी के साथ कुकर्म किया बल्कि उसे अन्य लोगों के साथ यौन संबंध बनाने पर मजबूर भी किया और उसके पैसे लिए.

सरकारी वकील का कहना था, ‘‘पूरी सुनवाई के दौरान लड़की एकदम चुप और कठोर बनी रही जो उसकी उम्र से मेल नहीं खाता. गवाहों को भी बयान देने में बहुत तकलीफ हुई है.’’

कोर्ट ने सरकार को निर्देश दिया है कि वो पीड़ित लड़की को ज़मीन आवंटित करे ताकि वो अपनी पढ़ाई पूरी कर सके.

कोर्ट ने इस पूरे मामले में 44 गवाहों और 43 दस्तावेजों के आधार पर फैसला सुनाया है. सुधीर के ख़िलाफ बलात्कार, धारा 376, बच्चों को ड्रग्स देने, धमकी देने और कई अन्य आपराधिक मामलों की सुनवाई की गई है.

इस मामले में पुलिस ने 106 लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमें एक वकील, एक डॉक्टर, एक फिल्म प्रोड्यूसर और एक व्यवसायी शामिल है जिन्होंने इस 14 वर्षीय लड़की का शोषण किया है.

संबंधित समाचार