समर्थक हिंसक हुए तो अनशन खत्म: अन्ना

अन्ना हजारे इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption टीम अन्ना का आरोप है कि उन्हें मीडिया में सही कवरेज नहीं मिल रही है.

समाजसेवी अन्ना हजारे ने जंतर मंतर पर अपने अनशन के दौरान पत्रकारों के साथ हुए दुर्व्यवहार के लिए मीडिया से माफी मांगी है.

उन्होंने अपने समर्थकों से कहा है कि अगर किसी तरह की हिंसा हुई तो वो अपने भ्रष्टाचार विरोधी अनशन को खत्म करने के लिए मजबूर हो जाएंगे.

सोमवार को अनशन कवर करने पहुंचे मीडिया कर्मियों से अन्ना समर्थकों की तू-तू, मैं-मैं हो गई थी. टीम अन्ना के कुछ समर्थकों का आरोप है कि उनके आंदोलन को मीडिया ठीक तरह पेश नहीं कर रहा है. बात बढ़ते-बढ़ते हाथापाई तक की नौबत आ गई.

ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन (बीईए) ने इस घटना की कड़ी निंदा की है और टीम अन्ना से तुरंत माफी मांगने को कहा था.

अन्ना की हिदायत

मंगलवार को अन्ना ने मंच से कहा कि उन्हें इस घटना पर गहरा अफसोस है और वो इसमें शामिल लोगों की तरफ से माफी मांगना चाहते हैं.

उन्होंने अपने समर्थकों से कहा, “किसी तरह की हिंसा नहीं होनी चाहिए. यहां तक कि शब्दों में भी नहीं. अगर आपने हिंसा की तो सरकार दो दिन में आंदोलन को तोड़ देगी. उनके पास ताकत है.”

टीम अन्ना के सदस्य अरविंद केजरीवाल ने भी मीडिया के साथ हुई बदसलूकी के लिए माफी मांगी है. उन्होंने कहा, "अगर मीडिया के साथ कोई मतभेद है तो हमें संवाद के तरीके निकालने होंगे."

इससे पहले बीईए की एक प्रेस विज्ञाप्ति में कहा गया, “ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन मीडिया कर्मियों पर अन्ना समर्थकों के हमले की निंदा करता है. बीईए इसे मीडिया के कामकाज में दखलंदाजी मानता है. मीडिया आंदोलन को निष्पक्ष तरीके से कवर करने की अपनी जिम्मेदारी निभा रहा है. टीम अन्ना को अपने समर्थकों के दुर्व्यवहार पर तुरंत माफी मांगनी चाहिए.”

'टीआरपी की खातिर'

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption टीम अन्ना के कुछ समर्थकों का गुस्सा मीडिया पर निकल रहा है.

उधर टीम अन्ना के एक सदस्य कुमार विश्वास ने पत्रकारों से हाथापाई की निंदा की है और कहा है कि ऐसा नहीं होनी चाहिए था.

लेकिन इससे पहले टीम के वरिष्ठ सदस्य शांति भूषण ने जंतर मंतर पर जारी आंदोलन की कवरेज को लेकर मीडिया पर पक्षपाक्षी रवैया अपनाने का आरोप लगाया. उनके मुताबिक, “मीडिया टीआरपी की खातिर सच को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहा है. चैनल मालिक सच्चाई को नहीं दिखा रहे हैं.”

टीम अन्ना का अनशन इस बार पहले जैसी भीड़ नहीं खींच पा रहा है. इसीलिए मीडिया में सवाल उठ रहे हैं कि क्या ये आंदोलन सिमट रहा है. यही सवाल अन्ना के समर्थकों को परेशान कर रहे हैं.

इस बीच दिल्ली पुलिस ने कुमार विश्वास को पुलिसकर्मियों के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने के लिए नोटिस भेजा है.

संबंधित समाचार