पुणे में हुए धमाकों का अब तक कोई सुराग नहीं

 गुरुवार, 2 अगस्त, 2012 को 11:28 IST तक के समाचार

चार में से एक विस्फोट यहां भी हुआ था

महाराष्ट्र के पुणे शहर में बुधवार की शाम कम तीव्रता वाले हुए लगातार चार धमाकों के मामले में अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है.

केन्द्रीय गृह सचिव आरके सिंह ने गुरुवार को बताया, "मैं अपनी बातों पर कायम हूँ कि पुणे में हुए लगातार चार बम विस्फोट योजनाबद्ध तरीके से किए गए आतंकवादी हमले हो सकते हैं."

हालांकि गृह सचिव ने कहा जांच चल रही है लेकिन अभी तक इस मामले में कोई सुराग हाथ नहीं लगा है.

दूसरी तरफ केन्द्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने गुरुवार को घटना स्थल का दौरा करने से मना किया. उन्होंने बताया कि अभी तक हमारे पास कोई ठोस जानकारी नहीं है.

उन्होंने कहा,"हमारी टीम पुणे गयी है और घटना का जांच-पड़ताल कर रही है, अभी हम कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं है, जब जांच पूरी हो जाएगी तब इसके बारे में जानकारी दी जाएगी."

बुधवार की शाम हुए इन धमाकों में सुमन नाम का एक व्यक्ति घायल हो गया था जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

कल हुए घटना के बाद पुणे के पुलिस आयुक्त गुलाबराव पोल ने बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद से बातचीत में बताया था कि इन धमाकों में किसी चरमपंथी समूह का हाथ नहीं लगता है.

पुलिस आयुक्त ने कहा था, ''इसके पीछे हमें अभी तक कोई सुराग़ नहीं मिला है. लेकिन जिस तरह के बम बलास्ट हुए हैं उससे अंदाज़ा होता है कि इसमें टेरेरिस्ट ऐंगल (आतंकी हमला) नहीं है. ये कुछ स्थानीय लोग होंगे जो लोगों के दिलों में डर पैदा करना चाहते हैं.''

धमाके के समय घटनास्थल पर मौजूद एक चश्मदीद रीतेश ने बीबीसी से बातचीत के दौरान कहा कि धमाका इतना मामूली था कि वो आवाज़ भी नहीं सुन सका.

धरना

दूसरी तरफ सूचना है कि धमाके से कुछ दूरी पर अन्ना हज़ारे के समर्थन में अनशन पर बैठे इंडिया अगेंस्ट करप्शन (आईएसी) को पुलिस ने वहां से धरना हटाने को कहा है.

इससे पहले भारत के गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने दिल्ली में बुधवार की शाम पत्रकारों को कि पुणे में जांगली महाराज रोड पर शाम 7:27 से लेकर 8:15 के बीच चार धमाके हुए.

"मैं अपनी कही बातों पर कायम हूं कि पुणे में हुए लगातार चार बम विस्फोट योजनाबद्ध तरीके से किए गए आतंकवादी हमले हो सकते हैं."

गृह सचिव आरके सिंह

उन्होंने ये भी कहा कि एक धमाका बाल गंधर्व थियेटर के बाहर हुआ और वो ख़ुद बुधवार की शाम वहां एक कार्यक्रम में जाने वाले थे. उसी थियेटर में लोकमान्य तिलक पुररस्कार समारोह होने वाला था जिसमें गृहमंत्री शिंदे मुख्य अतिथि थे.

ग़ौरतलब है कि शिंदे ने बुधवार को ही गृहमंत्रालय का पदभार संभाला था.

दूसरा धमाका मैक्डोनाल्ड के बाहर हुआ, तीसरा धमाका देना बैंक के एटीएम के सामने और चौथा धमाका गरवारे चौक के पास हुआ.

गृहमंत्री ने जानकारी दी कि एनएसजी और एनआईए की टीमें दिल्ली और मुंबई से पुणे के लिए रवाना हो गई हैं.

गृहमंत्री ने इस बारे में और कुछ भी बताने से इनकार कर दिया और कहा कि जांच जारी है.

बम विस्फोट की घटना की निंदा करते हुए प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता शाहनवाज़ हुसैन ने कहा था कि सरकार को आतंकी घटना के ख़िलाफ़ सख्ती से कार्रवाई करनी चाहिए जिससे कि उन्हें दोबारा ऐसा करने की हिम्मत ना हो.

इससे पहले 2010 में पुणे के जर्मन बेकरी में धमाका हुआ था जिसमें 17 लोग मारे गए थे.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.