अमरीकी गुरुद्वारे में हमले पर भारत में सिखों के प्रदर्शन

प्रदर्शन
Image caption दिल्ली के जंतर मंतर पर प्रदर्शन करते राष्ट्रीय अकाली दल के कार्यकर्ता

अमरीका के विस्कॉन्सिन राज्य में रविवार को एक गुरुद्वारे में हुई गोलीबारी की घटना के बाद भारत में गुस्साए लोगों ने कई स्थानों पर प्रदर्शन किए हैं.

जम्मू में सिख संगठनों तथा राजनीतिक दलों ने अमेरिका के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और टायर जलाकर अपना विरोध दर्ज कराया.

निर्भय निर्भौ निरंकार नामक संगठन ने डिग्याना में जम्मू-पठानकोट राजमार्ग पर प्रदर्शन किया.

रविवार को हुई इस घटना में एक हमलावर की गोलीबारी में सात लोगों की मौत हो गई थी. चार लोग गुरुद्वारे के अंदर और हमलावर समेत तीन लोग बाहर मारे गए.

दिल्ली में नारेबाजी

दिल्ली के जंतर मंतर पर खुद को राष्ट्रीय अकाली दल बताने वाली एक संस्था के कुछ कार्यकर्ता इकट्ठे हुए और उन्होंने अमरीका के खिलाफ नारेबाजी की और विरोध के तौर पर अमरीका का झंडा फाड़ा. संगठन के अध्यक्ष परमजीत सिंह पम्मा ने बीबीसी से हुई बातचीत में इस बात पर जोर दिया कि यह हमला एक सोची समझी साज़िश थी.

उन्होंने कहा, " इससे पहले भी कई बार अमरीका में गुरुद्वारों पर हमले हो चुके हैं. यह हमला एक सोची समझी साज़िश है न कि एक ऐसी वारदात जिसमे किसी सिरफिरे ने हमला कर दिया. अमरीका किस प्रकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए ऐसे तथ्य रख देता है. हम इसके विरोध में अमरीका के किसी भी प्रतिनिधि के भारत आने का विरोध करेंगे."

इस बीच प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने घटना पर गहरा दुख और शोक व्यक्त किया है.

उन्होंने कहा है कि हिंसा की इस नासमझ वारदात में, खासकर धार्मिक स्थल को निशाना बनाना दुखद है.

अमरीका से अपील

उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा है, ''भारत अमरीका के उन सभी शांतिप्रिय लोगों के साथ है जिन्होंने इस हिंसा की निंदा की है. इस दुखद वारदात पर हम अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के वक्तव्य का स्वागत करते हैं और आशा करते हैं कि अमरीकी सरकार शोकाकुल परिवारों से संपर्क स्थापित करेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि इस प्रकार की हिंसक वारदात भविष्य में न दोहराई जाए.''

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने इसे दुखद बताते हुए अधिकारियों से गुजारिश की है कि वो धार्मिक संस्थानों की सुरक्षा सुनिश्चित करें.

एक बयान जारी करते हुए उन्होंने मांग की कि प्रधानमंत्री तुरंत मामले में हस्ताक्षेप करें और अमरीकी अधिकारियों से कहें कि सारे देश में धार्मिक संस्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता करें.

पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने अमरीका से अपील की कि वो पता लगाए कि इस घटना के पीछे कौन लोग हैं.

संबंधित समाचार