रामदेव के आश्रम पर छापा, बालकृष्ण को राहत

 गुरुवार, 16 अगस्त, 2012 को 19:27 IST तक के समाचार
बाबा रामदेव

योग गुरू रामदेव के आश्रम पर खाद्य विभाग का छापा

भ्रष्टाचार और केंद्र में सत्ताधारी कांग्रेस के खिलाफ आंदोलन कर रहे बाबा रामदेव के हरिद्वार स्थित आश्रम में उत्तराखंड के खाद्य विभाग ने अचानक छापा डाला और वहाँ बनाई जानेवाली दवाओं और खाद्य सामग्री की जांच के लिए नमूने लिए.

हरिद्वार के खाद्य सुरक्षा अधिकारी योगेश पांडे ने बीबीसी को बताया कि, “ये कार्रवाई दिन में 12.30 बजे शुरू हुई और दोपहर 2 बजे तक चली. वहां से शहद, सरसों के तेल, नमक, बेसन, जूस और जांच के लिए कुछ दवाओं के सैंपल लिए गए.”

योगेश पांडे ने कहा कि ये नमूने रूद्रपुर स्थित प्रयोगशाला में भेजे जाएंगे और जांच के अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी.

छापे की ये कार्यवाई हरिद्वार में कनखल में स्थित बाबा रामदेव के दिव्य योग मंदिर आश्रम में हुई है.

अधिकारियों का कहना है कि ये कार्रवाई जिलाधिकारी के आदेश पर एक नियमित कार्रवाई है. लेकिन इस घटना को रामदेव के आंदोलन और सत्ताधारी कांग्रेस के खिलाफ उनके तेवर से जोड़कर देखा जा रहा है.

दावा

योग शिक्षक रहे बाबा रामदेव के संस्थान ने पिछले एक दशक में दवाओं और खाद्य पदार्थों का कारोबार बहुत बढ़ाया और आज इसका आकार करोड़ों रूपए आँका जाता है.

पतंजलि के नाम से पूरे देश में उनके खुदरा आउटलेट की श्रृंखला है जहां बीमारियों के अचूक इलाज की दवाओं के साथ-साथ बिना मिलावट के शुद्ध खाद्य पदार्थ बेचने का दावा किया जाता है जिसमें आटा, सूजी और बेसन तक शामिल हैं.

हालाँकि उनकी दवाओं और दावों पर विवाद उठता रहता है. ऐसा ही एक बड़ा विवाद 2005 में भी सामने आया था जब उनके ही आश्रम में काम करनेवाले कुछ मजदूरों ने आरोप लगाया था कि उनकी दवाओं में हड्डियों का चूरा मिलाया जाता है.

सीपीएम नेता वृंदा कारत ने भी इस मामले को उठाया था. लेकिन साल 2006 में सत्ताधारी कांग्रेस सरकार ने उन्हें क्लीन चिट दे दी थी.

इस बीच एक महीने से देहरादून के सुद्दोवाला जेल में बंद बाबा रामदेव के सबसे नजदीकी सहयोगी बालकृष्ण को अदालत से राहत मिल गई है.

नैनीताल हाईकोर्ट ने उन्हें जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए हैं.उन्हें 10 लाख रुपए के निजी मुचलके पर रिहा किया जाएगा.

सीबाआई ने उनके खिलाफ फर्जी शैक्षणिक दस्तावेजों के जरिए पासपोर्ट हासिल करने का मुकदमा दायर किया है.बालकृष्ण के खिलाफ गैर जमानती वारंट के बाद उन्हें पिछले महीने ही हरिद्वार से गिरफ्तार किया गया था.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.