किस देश में मौत की सज़ा कैसे?

 बुधवार, 29 अगस्त, 2012 को 13:00 IST तक के समाचार
इलेक्ट्रिक चेयर

मौत की सजा देने वाली 'इलेक्ट्रिक चेयर'

दुनिया में 58 देश सज़ा-ए-मौत के लिए फांसी देते हैं लेकिन सबसे अधिक 73 देशों में इस सजा को लागू करने के लिए गोली मारी जाती है.

इनमें से 45 देशों में फायरिंग स्कॉड मौत की सजा को लागू करने का एकमात्र तरीका है.

जहां तक फांसी का सवाल है, भारत सहित 33 देशों में यह मृत्युदंड का एकमात्र तरीका है.

छह देशों में स्टोनिंग यानी पत्थर मार कर यह दंड दिया जाता है जबकि पांच देशों में इंजेक्शन देकर यह सजा दी जाती है.

तीन देशों में सिर काट कर इस सजा को अंजाम दिया जाता है.

दुनिया में 58 देश मृत्युदंड देने के मामले में काफी सक्रिय माने जाते हैं, जबकि 97 देश इसके प्रावधान को समाप्त कर चुके हैं.

बाकी देशों ने पिछले लगभग दस सालों से किसी को मृ्त्युदंड नहीं दिया है या फिर वो केवल जंग के समय ही इसका इस्तेमाल करते हैं.

कैसे देते हैं विभिन्न देश सजा-ए-मौत

फायरिंग, फांसी, पथराव

अफगानिस्तान, सूडान,

फायरिंग, फांसी

बांग्लादेश, केमरून, सीरिया, यूगांडा, कुवैत, ईरान, मिस्र

फांसी

भारत, मलेशिया, बारबाडोस, बोत्सवाना, तंजानिया, जामबिया, जिंबाबवे, दक्षिण कोरिया,

फायरिंग

यमन, टोगो, तुर्कमेनिस्तान, थाइलैंड, बहरीन, चिली, इंडोनेशिया, घाना, अर्मिनिया

इंजेक्शन और फायरिंग चीन

इंजेक्शन

फिलीपींस
इलेक्ट्रोक्यूशन, गैस, फांसी, फायरिंग अमरीका

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.