माफिया से नेता बने अरुण गावली को उम्र कैद

 शुक्रवार, 31 अगस्त, 2012 को 13:38 IST तक के समाचार

अरुण गवली को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है

मुंबई की एक अदालत ने माफिया से नेता बने अरुण गावली को शिवसेना पार्षद की हत्या के एक मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है.

गावली पर सात लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट यानी मकोका की अदालत को इस मामले में मंगलवार को फैसला सुनाना था लेकिन उसने शुक्रवार तक के इसे लिए टाल दिया था.

पिछले शुक्रवार को विशेष अदालत ने इस मामले में 12 आरोपियों को दोषी ठहराया था जबकि तीन अन्य आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था.

घाटकोपर से शिव सेना के नेता कमलाकर जामसंदेकर की मार्च 2008 में उनके आवास के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

गिरफ्तारी

गावली को इस मामले में घटना के दो महीने बाद ही 21 मई को गिरफ्तार कर लिया गया था और तब से वह जेल में है.

बाद में पुलिस ने अक्तूबर 2010 को गावली और अन्य पर मकोका व भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था.

अरुण गावली पहली बार किसी केस में सजा हुई है. हालाकि, गावली पर इससे पहले भी कई आपराधिक मुकदमे चले, लेकिन पुलिस उन्हें अदालत के सामने दोषी ठहराने में हर बार नाकाम रही.

सुनवाई के दौरान बाला सुर्वे नाम के एक अभियुक्त की मौत हो गई जबकि तीन अन्य अभियुक्त सबूतों के अभाव में बरी कर दिए गए.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.