घंटो बंधक रहे एसपी हुए रिहा

फाइल फोटो
Image caption चार घंटे तक चले ड्रामें के बाद कांस्टेबल ने एस पी को रिहा कर दिया

हैदराबाद में एक निलंबित पुलिस हेड कांस्टेबल ने बुधवार की शाम अपने पुलिस अधीक्षक यानि एसपी को बंधक बना लिया और चार घंटे तक चले ड्रामें के बाद उन्हें रिहा कर दिया .

बंधक बनाने के बाद हेड कांस्टेबल ने धमकी दी थी कि अगर छुडाने की कोशिश की गई तो वो एसपी को जिंदा जला डालेगा.

हेड कांस्टेबल गिरी प्रसाद शर्मा ने एसपी लक्ष्मी नारायण को सैफआबाद के इलाके में एक लॉज के कमरे में चार घंटे तक बंदी बनाकर रखा और कमरे का दरवाज़ा अन्दर से बंद कर लिया था.

उसने एक सब इन्स्पेक्टर नाग राजू के फोन पर वरिष्ट अधिकारी को बंदी बनाने की सूचना दी जिसके बाद शहर में हडकंप मच गया और पुलिस की कई टीमों ने उस इलाके को घेर लिया .

हेड कांस्टेबल गिरी प्रसाद शर्मा ने एक स्थानीय टीवी चैनल को फोन पर धमकी देते कहा कि उस के पास चालीस लीटर पेट्रोल है और अगर किसी ने एसपी को छुडाने के कोशिश की तो वो अधिकारी को जिंदा जला डालेगा साथ ही खुद भी आत्महत्या कर लेगा.

बंधक बनाए जाने के बाद पुलिस हरकत में आई और आंध्र प्रदेश पुलिस के प्रमुख दिनेश रेड्डी ने शर्मा से एसपी को रिहा करने को कहा.

बातचीत के बाद हेड कांस्टेबल गिरी प्रसाद शर्मा ने एसपी लक्ष्मी नारायण को रिहा कर दिया.

इससे पहले, राज्य के गृह मंत्री साबित इंद्र रेड्डी ने भी बंधक बनाने वाले शर्मा से फोन पर बात करके उससे लक्ष्मी नारायण को छोड़ने का आग्रह किया था .

धमकी

बंधक बनाने वाले शर्मा की मांग थी कि सरकार अतरिक्त एसपी विजय कुमार को निलंबित करें.

शर्मा का कहना था एसपी ने बिना किसी कारण के उसे निलंबित किया और पिछले आठ महीनों से उसे परेशान कर रहा है.

महत्वपूर्ण है कि हेड कांस्टेबल और एसपी दोनों का संबंध पुलिस ट्रांसपोर्ट संगठन से है.

शर्मा ने आरोप लगाया कि इस संगठन में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार फैला हुआ है और इसके लिए सभी बड़े अधिकारी जिम्मेदार है. उसने यह भी मांग की कि विभाग में ड्राइवरों की जितनी जगहें खाली हैं उन्हें भरा जाए. साथ ही भ्रष्टाचार के मामलों की छान-बीन करवाई जाए.

संबंधित समाचार